Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
ऋण उठाव बढ़ने तक ब्याज दरें स्थिर रहने की संभावना : SBI नई सड़क परियोजनाओं और एयरपोर्ट्स के बीच संपर्क चाहते हैं पीएम वाजपेयी ने गुजरात दंगे को एक ‘गलती’ करार दिया था: पूर्व रॉ प्रमुख पीएम ने प्रशंसकों से कहा- अभद्र शब्दों का जवाब उसी अंदाज में न दें उपचुनाव में यूडीएफ की जीत के बाद चांडी ने राहुल से मुलाकात की सरकार ने जारी की सामाजिक आर्थिक एवं जाति जनगणना अब देश भर में कहीं भी जाएं, नहीं बदलना होगा सेलफोन नंबर राष्ट्रपति ने अमेरिकी स्वतंत्रता दिवस पर दी बधाई अमरनाथ यात्रा पर पीडीपी सरकार का सुरक्षा कवच धर्म निरपेक्षता की मिसाल डिजीटल मध्यप्रदेश से जनता की जिन्दगी में सुखद बदलाव आयेगा ऑनलाइन बिजली बिल भुगतान की सुविधा माप उपकरणों के सत्यापन से 12 करोड़ से अधिक की राजस्व आय प्रायवेट स्कूल में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों का विवरण पोर्टल में दर्ज 7 से 15 जुलाई तक फिर होगा स्नातक एवं स्नातकोत्तर के लिये रजिस्ट्रेशन मनरेगा के कन्वर्जेन्स से सहजेंगे वर्षा की एक-एक बूँद विशेष ग्राम-सभाओं का आयोजन जारी विमानन विकास गतिविधियों के लिए समिति गठित प्रदेश में पहली बार आई.टी.आई. के 3 प्रशिक्षणार्थी को मिली विदेश में नौकरी जिलों में अनुपयोगी भूमि चिन्हित कर औद्योगिक प्रयोजन में लायें हाथ धुलाई विश्व कीर्तिमान को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकार्ड ने दी मान्यता मुख्यमंत्री श्री चौहान को "डिण्डोरी मेन पुस्तक भेंट सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र संभावनाओं भरा मप्र की जनता को ऑनलाईन सेवायें मिलेगी HRD मंत्रालय का स्टीफंस छेड़छाड़ विवाद में हस्तक्षेप से इनकार डिजीटल इंडिया सप्‍ताह के अंतर्गत प्रमुख डाकघरों में डाक विभाग प्रो. केदार नाथ अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त भारत में इंटरनेट मौलिक अधिकार बने..( सरमन नगेले) Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

किंगफिशर ने उड़ानों का परिचालन शुरू किया

MP POST:-23-02-2012
नई दिल्ली। गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रही किंगफिशर एयरलाइन्स ने अपनी नई उड़ान समयसारणी के मुताबिक उड़ानों का गुरुवार को परिचालन शुरू किया। इसमें पहले की तुलना में उड़ानों की संख्या काफी कम कर दी गई है। उल्लेखनीय कि विमानन नियामक डीजीसीए ने इसका परिचालन ब्योरे का परीक्षण किया, ताकि इस पर विचार किया जा सके कि नियम तोड़ने के खिलाफ कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है या नहीं। कंपनी को 13 बैंकों के समूह द्वारा ताजा ऋण की पेशकश के बारे में अभी अनिश्चितता है क्योंकि खबर है कि प्रमुख बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने किंगफिशर को 1,650 करोड़ रुपये का राहत पैकेज देने से इंकार किया है, लेकिन बैंक अपनी योजना के बारे में कुछ भी नहीं बता रहे।
नागर विमानन मंत्री अजित सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि यदि बैंकों यह अच्छा कारोबार लगता है तो वे किंगफिशर को ऋण देंगे, लेकिन सरकार बैंकों से यह नहीं कहेगी कि वे किसी निजी उद्योग को ऋण दें। इसका फैसला बैंक ही करेंगे। उन्हें इस आधार पर फैसला करना है कि उन्हें धन वापस मिलेगा या नहीं।
सूत्रों ने बताया कि इस बीच नागर विमानन महानिदेशालय [डीजीसीए] ने किंगफिशर के अधिकारियों की रिपोर्ट की जांच शुरू कर दी है। डीजीसीए के प्रमुख ई के भारत भूषण ने मंत्री को इसकी जानकारी दी और किंगफिशर के शीर्ष अधिकारियों के साथ हुई बातचीत संबंधी रिपोर्ट सौंपी। उन्होंने बताया कि विमानन नियामक किंगफिशर की नई और कम उड़ानों वाली समयसारणी की जांच कर रही है जिसमें तहत 28 विमानों के जरिए 175 उड़ानों के परिचालन का ब्योरा है। यह पूछने पर कि क्या विमान कानून [1937] के नियम का उल्लंघन करने के आरोप में किंगफिशर के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है या नहीं इस बारे अजित सिंह ने कहा कि डीजीसीए इन सब पर विचार कर रहा है। उन्हें कुछ रपट मिली है। फिलहाल हमारी प्राथमिकता यह देखना है कि वे कितनी उड़ानों का परिचालन कर सकते हैं और यह सुरक्षित करना कि उड़ानें पूरी तरह सुरक्षित हों।
मंत्री ने स्वीकार किया कि विमानन उद्योग मुश्किल दौर से गुजर रहा है और कहा कि नागर विमानन आर्थिक वृद्धि का महत्वपूर्ण क्षेत्र है। हम बहुत सी नीतियों में बदलाव कर रहे हैं। इस क्षेत्र को प्रोत्साहन देना है और इसे वृद्धि दर्ज करना है। इस बीच हवाईअड्डा के सूत्रों ने बताया कि किंगफिशर ने सोमवार को डीजीसीए को सौंपी संशोधित समयसारणी के मुताबिक अपनी उड़ानों का परिचालन शुरू कर दिया है।
विमानन कंपनी ने कहा कि वह रोजाना 175 उड़ानों का परिचालन करेगी, जबकि पिछले अक्टूबर में उसने 400 उड़ानों की अनुमति मांगी थी। उस वक्त किंगफिशर ने नियामक को बताया था कि वह 64 विमानों का परिचालन करेगी, लेकिन अब इनकी संख्या घटकर 28 रह गई है क्योंकि या तो विमान का पट्टा देने वालों ने विमान वापस ले लिए हैं या फिर उनकी मरम्मत होनी है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड [सीबीडीटी] ने किंगफिशर के बैंक खातों पर रोक लगा दी है क्योंकि उसे 31 मार्च तक 40 करोड़ रुपये का अप्रत्यक्ष कर चुकाना है।