Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
जनसम्पर्क मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल 24 तथा 25 मई को सिंगरौली में सहायता राशि हुई 5 करोड़ 5 लाख डी.एल.एड. पाठयक्रम में प्रवेश हेतु आवेदन अंतिमतिथि 30 मई श्रमिकों के बच्चों को 25 हजार रूपये की एक मुश्त सहायता स्मार्ट क्लास रूम के लिए बजट आवंटित राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी की पद-स्थापना कृषि वैज्ञानिक और अधिकारी किसानों से सीधा संवाद स्थापित करेंगे अ.ज.जा.विद्यार्थियों के लिये आय प्रमाण पत्र की व्यवस्था संशोधित मुख्यमंत्री रोजाना करेंगे कृषि महोत्सव की समीक्षा उचित मूल्य दुकान के कमीशन का पुनर्निर्धारण कृषि महोत्सव 25 मई से 15 जून कृषि महोत्सव-2015 की तैयारियाँ पूर्ण तीन साल में खुले में शौच की बुराई से मुक्त होगा मध्यप्रदेश समाज गरीब बच्चों की पढ़ाई के लिये कोष बनाये- CM श्री चौहान अमेरिकी उद्यमियों को भारत में निवेश का सरकार ने दिया न्योता काले धन से लड़ने के लिए गंभीर अभियान की जरूरत: SIT सांसद डिंपल ने नीदरलैंड में की यूपी सरकार की ब्रांडिंग मोदी सरकार का ग्राफ तेजी से नीचे गिर रहा है : कांग्रेस सीवीसी और सीआईसी की नियुक्ति पर अभी कोई फैसला नहीं महंगाई नियंत्रण में, वैश्विक अर्थव्यवस्था और कृषि क्षेत्र चुनौती: जेटली केजरीवाल बस ड्रामा चाहते हैं, हम शासन में यकीन करते हैं: रिजीजू जयललिता 5वीं बार बनीं तमिलनाडु की मुख्यमंत्री शासन से बाहर बने ताकतवर सत्ता तंत्र को ध्वस्त किया: जेटली मनमोहन के बराबर ही तो मोदी ने की हैं विदेश यात्राएं छत्तीसगढ़ के CM श्री रमन सिंह ने किए माँ पीताम्बरा पीठ में दर्शन Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

जैनिटेकली मॉडीफाईड बीज एवं हाईब्रीड बीज

MP POST:-24-02-2012
भोपाल।मप्र के किसान कल्याण मंत्री डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया ने विधायक श्री राजवर्धन सिंह दत्तीगाँव द्वारा शुक्रवार 24 फरवरी 2012 को राज्य विधानसभा में पूछे गये प्रश्न के उत्तर में बताया कि प्रदेश के चयनित सात जिलों के आदिवासी कृषकों को संकर मक्का बीज वितरण हेतु पायलट प्रोजेक्ट के अन्तर्गत 90 प्रतिशत अनुदान पर बीज निगम के माध्यम से बीज वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदाय बीज में से प्रदेश के 3 आदिवासी बाहुल्य जिलों में 73522 क्विंटल संकर मक्का बीज वितरित किया गया है। इससे देशी सफेद मक्का की नस्ल खत्म होने का खतरा नहीं है। राज्य शासन संकर किस्मों के प्रयोगा से उत्पादन वृद्धि हेतु विशेष प्रयास करना चाहती है।