Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
संसद का शीतकालीन सत्र प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की टिप्‍पणी राष्ट्रपति 25 एवं 26 नवम्बर को कर्नाटक और महाराष्ट्र का दौरा करेंगे हर सांसद पर सदन चलाने की जिम्मेदारी : प्रधानमंत्री मोदी पुंछ में रैली करने वाले दूसरे पीएम होंगे दुनियाभर में उठाई जाएगी अब संगठित हिंदू आवाज राष्ट्रपति ने मुरली देवड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया लोकसभा में नवनिर्वाचित सदस्यों ने शपथ ली राज्यसभा की बैठक में शामिल हुए सचिन तेंदुलकर JK चुनावः प्रचार के लिए रेडियो का इस्तेमाल स्कूली पाठ्यक्रम में गंगा स्वच्छता पाठ संभव अब तक 61 करोड़ लोगों को ‘आधार’ जारी एनसीसी दिवस की पूर्व संध्या पर कैडेटों का वृक्षारोपण अभियान वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मुरली देवड़ा का निधन चीन से वार्ताः डोभाल विशेष प्रतिनिधि नियुक्त खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया ने किया फुटबाल प्रतियोगिता का शुभारंभ अल्पसंख्यक वर्ग सेवा राज्य पुरस्कार की ज्यूरी की बैठक सम्पन्न 26 नवम्बर को मिल्क-मेन डॉ. कुरियन का जन्म-दिन मनायेगा मध्यप्रदेश हाथ से मैला उठाने वाले कर्मियों के नियोजन प्रतिषेध और पुनर्वास अधिनियम नगर परिषद चाँद की निर्वाचन प्रक्रिया स्थगित राज्यपाल द्वारा पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री देवड़ा के निधन पर शोक व्यक्त जिला पंचायत अध्यक्ष पद का आरक्षण अब 12 दिसंबर को ई.व्ही.एम. का आवंटन अभ्यर्थियों की उपस्थिति में होगा नगरीय निकाय चुनाव में लगेंगी 17 वि.स.बल कंपनी फोन जरूर उठाएं उच्च शिक्षा मंत्री श्री गुप्ता ने किया 5 निर्माण कार्य का भूमि-पूजन प्रदेश के शहरों को झुग्गी मुक्त कर सौन्दर्यीकरण किया जायेगा - CM सर्व समाज के हितों के सरंक्षण में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी - चौहान नगरीय क्षेत्रों में नागरिकोचित सुविधा के विकास के लिए प्रतिबद्ध - नंद चौहान प्रधानमंत्री की घोषणाओं पर तेज अनुवर्ती कार्रवाई नेपाल की यात्रा पर जाने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वक्तव्य संस्कृति एवं पयर्टन मंत्री, डा.शर्मा का सितारा देवी के निधन पर शोक व्यक्त संसद ने दुनिया में झंडे गाड़ने वाले भारतीयों को दी बधाई सार्क सम्मेलन में हिस्सा लेने नेपाल पहुंचे PM, ट्रामा सेंटर का किया उद्घाटन सरताज अजीज से मिलीं सुषमा, मुलाकात को 'शिष्टाचार भेंट' बताया सार्क सम्मेलन में गुरुवार को नवाज शरीफ से मिलेंगे नरेंद्र मोदी आप चाइबासा वाले हैं, मैं चायवालाः मोदी पड़ोसियों के साथ करीबी रिश्ते प्राथमिकता: मोदी इंदिरा शासनकाल पर राष्ट्रपति ने लिखी पुस्तक पूर्व न्यायाधीश सीके प्रसाद होंगे पीसीआई अध्यक्ष दिल्लीः शीला दीक्षित कांग्रेस चुनाव समिति सदस्य जम्मू-कश्मीर में कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान स्कूलों में एक दिसम्बर से सोया मिल्क पाउडर दिये जाने के लिए कार्रवाई शुरू कमिश्नरी में 06 और कलेक्ट्रेट में 74 आवेदन मतदान केन्द्रों में अभिकर्ताओं को बैठाने के लिए दो समूह बनेंगे मध्यप्रदेश को एक और अवार्ड निर्वाचक नामावली के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्य में गति लाये मध्यप्रदेश में वर्ष 2015 के शासकीय अवकाश घोषित ओपीनियन एवं एग्जिट पोल पर रहेगा प्रतिबंध बाल रंग के साथ होगी राज्य-स्तरीय देशभक्ति काव्य-पाठ प्रतियोगिता CM की 26 नवम्बर को शिवपुरी,गुना, राजगढ़ व देवास में चुनावी जनसभाएं प्रथम चरण के 135 नगरीय निकाय में शाम 5 बजे थम जायेगा चुनाव प्रचार झारखंड में पहले चरण के चुनाव में 62 प्रतिशत मतदान अद्भुत, अकल्पनीय संस्कृति की झलक देखी चित्रकला में भारी मतदान हमारे लोकतंत्र के लिए सकारात्‍मक संकेत - केंद्रीय गृह मंत्री Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।