Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मध्यप्रदेश में विकसित होगा नया औद्योगिक नगर कुसुम महदेले ने लंबित पेयजल परियोजना के संबंध में श्री गडकरी से भेंट की उच्च शिक्षा मंत्री श्री गुप्ता आज इंदौर में काले धन की वापसी जल्द ही: जेटली राष्ट्रपति कल विश्व विद्यालय के स्वर्ण जयंती दीक्षांत समारोह में शामिल हों यूपीएससी छात्रों के साथ अन्याय नहीं होगा: जितेंद्र सिंह दागी नेताओं के खिलाफ मुकदमों का निपटारा जल्दी हो: PM बालाघाट के बाढ़ प्रभावित परिवारों को हर-संभव सहायता दी जायेगी: कृषि मंत्री मुख्यमंत्री का महिला मोर्चा की पदाधिकारियों ने किया सम्मान राष्‍ट्रपति ने राष्‍ट्रपति भवन संग्रहालय राष्‍ट्र को समर्पित किया विद्यार्थी उन्नत राष्ट्र बनाने में योगदान दें कुसुम महदेले ने नोएडा स्थित मृगनयनी का अवलोकन किया राष्ट्रपति के तौर पर प्रणब मुखर्जी ने दो साल साल पुरे किए राहुल गांधी ने अमेठी के मतदाताओं को धन्यवाद दिया राज्य निर्वाचन आयोग ने अधिकारियों को स्थानांतरित करने को कहा सेमी हाईस्‍पीड ट्रेन चलाने के लिए रेलवे ने 9 मार्गों का चयन किया राजस्थान की मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से भेंट की उद्योगपतियों ने दिये नये निवेश प्रस्ताव Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।