Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
महिला मोर्चा की बैठक 19 अप्रैल को भोपाल में अनूसूचित जाति मोर्चा की प्रदेष कार्यसमिति एवं जिलाध्यक्षों की बैठक अल्पसंख्यक भाई कंधे से कंधा मिलाकर मुल्क को तातकवर बनायेंगे- श्री मेनन उपभोक्ता कल्याण निधि से अनुदान के लिये आवेदन आमंत्रित निर्माण से भी जरूरी है बेहतर भविष्य बनाना- मंत्री श्रीमती माया सिंह राष्ट्रीय एवं राज्य-स्तरीय पत्रकारिता पुरस्कार वितरण समारोह रविवार को परिवहन मंत्री ने किया गेहूँ खरीदी केंद्र का निरीक्षण मूर्ति भारत लाने पर PM श्री नरेन्द्र मोदी की मंत्री श्री गौर ने की प्रशंसा किरण नगर, झील नगर के नाले नालियों को तुरंत बनाये डॉ. अम्बेडकर के विचारों को सही परिप्रेक्ष्य में जानने की जरूरत प्रदेश में हुई 21 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी निमाड़ के किसानों के लिये ओंकारेश्वर नहर बनी जीवन रेखा महिला सशक्तिकरण भारत की संस्कृति में निहित- CM श्री चौहान दसवाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन भोपाल में होगा ऑनलाइन रिटर्न के बाद डाक से दस्तावेज भेजने से निजात रिलायंस इंडस्ट्रीज इस साल फिर से चालू करेगी अपने सभी पेट्रोल पंप दिल्ली में टंगा संजय जोशी के समर्थन में पोस्टर, पीएम पर हमला हरित प्रौद्योगिकी का विकास युद्धस्तर पर करने की जरूरत : जेटली भूमि विधेयक पर सरकार के दावों की पोल खोलेगी कांग्रेस आदान-प्रदान ही कालेधन से निपटाने का एकमात्र रास्ता: अरुण PM मोदी ने विश्व स्तर पर भारत का कद बढ़ाया है : स्वराज पॉल पिछली तिथि से टैक्स लगाना पड़ेगा महंगा: वित्त मंत्री अरुण जेटली पीएम मोदी की कनाडा यात्रा से 1.6 अरब डॉलर मूल्य का व्यवसाय सृजन न्यायिक नियुक्तियों में उच्चतम मानकों का पालन किया जाना चाहिए: राष्ट्रपति मूल्य आधारित शिक्षा ने ही सुपर-30 को सफल बनाया- आनंद कुमार महिलाओं में स्वास्थ्य साक्षरता बढ़ाने चलेगा अभियान Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।