Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
आर के धोवन बने नए नौसेना प्रमुख मतदाता वाकई ‘उल्लू’ नहीं हैं- अरुण जेटली शाह ने आचार संहिता का उल्लंन नहीं किया- भाजपा दूरसंचार कंपनियों के खातों का ऑडिट कर सकता है सीएजी- सुप्रीम कोर्ट मुझे मोदी से नहीं, बल्कि उनके इरादों से लगता है डर- फारूक राहुल गांधी के रोड शो ने बढ़ाई एसपीजी की मुश्किलें मप्र में दूसरे चरण की 10 सीटों के लिए 2 बजे तक 30% मतदान सोनिया का पीएम पद से इंकार त्याग नहीं, धोखा था- शिवराज सुषमा स्वराज ने भोपाल में किया मतदान मप्र में दूसरे चरण की 10 सीटों के लिए 3 बजे तक 45% वोटिंग मोदी 'आदतन झूठे' और 'एनकाउंटर चीफ मिनिस्टर- चिदंबरम राज्यपाल श्री यादव ने मतदान किया उज्जैन कमिश्नर की पदस्थापना के आदेश जारी मुख्य सचिव श्री डिसा ने किया मतदान दिखावा है मोदी का ‘मुस्लिम प्रेम’- अखिलेश श्री आडवाणी 19 अप्रैल को बडवानी और रतलाम संसदीय क्षेत्र में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण मतदान में कांग्रेस हताशा और अवसाद में पहुंची मतदान के प्रति बढ़ते रूझान ने परिवर्तन की दिशा निर्धारित की- श्री तोमर कांग्रेस ने विश्व बिरादरी में भारत का सिर झुकाया- शिवराज भारत को मजबूत स्थिर सरकार और सशक्त नेतृत्व की दरकार- शिवराज बीजेपी ने की कांग्रेस घोषणा पत्र की नकल- राहुल लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के लिए अधिसूचना जारी अगर मोदी पीएम बने तो देश सांप्रदायिक दंगों की चपेट में आ जाएगा- मायावती राहुल ने किया है अमेठी के साथ मजाक- स्मृति हर हाल में मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे- राजनाथ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जयदीप गोविन्द ने किया मतदान पांचवें चरण में भारी मतदान, कई दिग्‍गजों की किस्‍मत ईवीएम में बंद मध्यप्रदेश में दूसरे चरण के लोकसभा चुनाव में 54.41 प्रतिशत मतदान Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।