Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
उमर ने उठाए कश्मीर में पीडीपी-भाजपा के गठबंधन के भविष्य पर सवाल केंद्र के निर्देश पर काम कर रही है महाराष्ट्र सरकार: राज ठाकरे मोदी सरकार की अटल पेंशन योजना एक जून से अनुच्छेद 370 पर भाजपा के रुख में कोई बदलाव नहीं :वेंकैया अरविंद केजरीवाल को हटाने की साजिश हो रही है: संजय सिंह जेटली ने कंपनियों को दिया 2 लाख करोड़ रुपए का तोहफा: चिदंबरम कैंटीन में PM मोदी ने किया लंच और बिल के चुकाए 29 रुपये कांग्रेस ने 5 नए पीसीसी प्रमुख नियुक्त किए साइबर सुरक्षा के समाधान, नए विचार विकसित करे IT उद्योग: पीएम कोयला अध्यादेश का स्थान लेने वाला विधेयक लोकसभा में पेश हाईस्कूल परीक्षा आज से ई-मेल और मोबाईल नम्बर दर्ज कराने का अनुरोध उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा वार्ड 25 में सी.सी.रोड का भूमि-पूजन वल्लभ भाई पटेल उद्यान में हुआ सामूहिक वन्दे-मातरम् गायन,, आठवीं एम पी एक्सपोर्टेक-2015 संविदा पर्यवेक्षकों को भी 180 दिवस का मातृत्व अवकाश छात्रवृत्ति की स्वीकृति के वितरण की अंतिम तिथि 5 मार्च डेंगू की रोकथाम के लिए होली पर कूलर के पुराने खस पेड जलाने की अपील पदोन्नति प्रकरण 15 दिन में करें निराकृत- मंत्री श्री गुप्ता मुख्य सचिव स्तर पर स्वाईन फ्लू नियंत्रण प्रयासों की समीक्षा प्रदेश की पहली चलित आँगनवाड़ी जुगनू का शुभारंभ गैर जरूरी स्पीड ब्रेकर हटाये जायेंगे- मंत्री श्री गौर आधार नम्बर की जानकारी वोटर आई.डी.से जुड़ना शुरू बाँस नवाचारों के लिये केन्द्रीयमंत्री श्री गडकरी ने दी CM को बधाई सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं के लिये ऑनलाइन प्राप्त आवेदनों पर कार्रवाई सम्पत्ति कर वसूली में तेजी लाने के निर्देश त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं का प्रथम सम्मिलन 11 से 26 मार्च तक महाविद्यालयों में केम्पस एम्बेसडर के लिये हेल्प-डेस्क स्थापित होंगे प्रदेश के विकास की गति देखकर सभी आश्चर्य चकित हैं- श्री चौहान स्वाइन फ्लू : 40 और लोगों की मौत, मृतकों की संख्या हुई 1,115 मुफ्ती के बयान पर लोकसभा में विपक्ष का हंगामा मुफ्ती के बयान को समर्थन का सवाल ही नहीं, पूरे सदन की भावना है यह: केंद्र अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस - 8 मार्च रेत खनन नीति-2015 मंजूर- मंत्री-परिषद् के निर्णय वर्ष 2014 में भी मध्यप्रदेश की आर्थिक विकास दर 10.19 प्रतिशत उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा वार्ड-25 में कचरा-घर का भूमि-पूजन एनयूएलएम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये गवर्नेंस काऊंसिल का गठन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एक्सपर्ट ग्रुप का गठन मंत्री ने गीतांजलि कन्या महाविद्यालय में छात्राओं को किया पुरस्कृत प्रदेश में राज्य शहरी पार्किंग नीति लागू की जायेगी-मुख्यमंत्री होली जनमानस का सामूहिक उल्लास आनंद के अतिरेक में मातृभाव का विस्तार हो कन्वेंशन सेंटर निर्माण पर निवेशक को अनुदान की अधिकतम सीमा 10 करोड़ वित्तीय समावेशन कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिये समिति गठित भारतीय सड़क कांग्रेस अधिवेशन के लिये एडवाईजरी कमेटी गठित समाज एवं सरकार को दिशा देने में पत्रकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका बजट की राशि का उपयोग मेक इन मध्यप्रदेश में करने के निर्देश विशेष सुविधाएं चाहिए तो पाकिस्तान जाएं मुसलमान: शिवसेना भूमि अधिग्रहण बिल के खिलाफ 1100 किमी पदयात्रा करेंगे अन्ना अफजल के साथ अन्‍याय हुआ, उसे फांसी पर लटकाने के पर्याप्‍त सबूत नहीं थे पीएम मोदी ने बीजेपी सांसदों से कहा- लोगों को बजट के ब्यौरों की जानकारी दें नदियों को जलमार्ग में बदलने के लिए संसद की मंजूरी लेगी सरकार: गडकरी PM मोदी बाले-मुफ्ती के बयान का समर्थन नहीं अंत्योदय मेलों का आयोजन इस माह, समाधान ऑनलाइन में मुख्यमंत्री लोकतंत्र में किसी की धमकी न चली है, न चलेगी : PM मोदी Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।