Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मंत्रालय उद्यान में हुआ राष्ट्रगीत वंदेमातरम गायन नजरी नक्शा के साथ पंचायतवार तैयार होंगी मतदाता सूची कृषि और सिंचाई के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की उपलब्धियाँ चमत्कारिक शिक्षक दिवस पर पौने दो करोड़ से अधिक बच्चे सुनेंगे प्रधानमंत्री का सम्बोधन प्रदेश को पूर्ण स्वस्थ बनाने में संसाधनों की कमी नहीं चित्रकूट में ट्रस्ट बनाया जायेगा प्रधानमंत्री ने ताइमेई एलिमेन्ट्री स्कूल का दौरा किया मोटर वाहन अधिनियम 1988 का स्‍थान लेगा सड़क यातायात अधिनियम: गडकरी राष्‍ट्रपति का वियतनाम के राष्‍ट्रीय दिवस की पूर्व संध्‍या पर संदेश निप्पॉन किडनरेन द्वारा आयोजित दोपहर के भोज पर प्रधानमंत्री का संबोधन भारत में दो लाख करोड़ रुपए निवेश करेगा जापान सोनिया गांधी आज से दो दिवसीय रायबरेली दौरे पर बरगी परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना बनाया जायेगा- उमा भारती गृहमंत्री ने पाक के साथ काठमांडू में द्विपक्षीय वार्ता की खबर का खंडन किया जेपी पॉवर निगरी से 660 मेगावाट बिजली उत्पाद शुरू ममता अभियान की सरल भाषा में दें जानकारी - डॉ. शेजवार शताब्दी एक्सप्रेस हबीबगंज तक विस्तारित करने के लिए आभार - नंदकुमारसिंह राज्य-स्तरीय सतर्कता एवं मॉनीटरिंग समिति पुनर्गठित छात्रवृत्ति निर्धारित समयावधि में बँटे मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में रामदेवरा तीर्थ भी शामिल जापान चैम्‍बर्स आफ कामर्स में नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए भाषण का मूल पाठ शासकीय कर्मचारियों को तृतीय उच्च वेतनमान मंत्रि-परिषद् द्वारा गौण खनिजों की रायल्टी एवं भाटक दरों का पुनरीक्षण 278 नगरीय निकाय की मतदाता-सूची का हुआ प्रारंभिक प्रकाशन उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा कोटरा में पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन मध्यप्रदेश में झींगा-पालन नीति का क्रियान्वयन शुरू आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी पीसीपीएनडीटी एक्ट से जोड़ा जायेगा 25 हजार कृषकों की आय में वृद्धि की बड़ी पहल प्रदेश में इस वर्ष भण्डारण क्षमता 152 लाख मीट्रिक टन संविदा पर्यवेक्षक के मानदेय में 2600 रुपये की वृद्धि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियाँ राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार के लिए 12 शिक्षक का चयन टीसीएस जापान प्रौद्योगिकी एवं संस्‍कृति अकादमी के उद्घाटन पर PM की टिप्‍पणी सैकरेड हार्ट विश्‍वविद्यालय तोक्‍यो में प्रधानमंत्री का व्‍याख्‍यान निक्केई द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍य वक्‍ता के रूप, में PM का भाषण सरकार संसद के अगले सत्र में मोटर बिल लाने का प्रयास करेगी: गडकरी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मां वैष्णो देवी के दर्शन किए जापान-भारत एसोसिएशन द्वारा आयोजित स्वागत समारोह में,PM का भाषण नए शासन में ‘नीतिगत पक्षाघात’ समाप्त हो: जावडेकर राज्य पशुधन मिशन के लिये राज्य-स्तरीय समिति का गठन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने करवाई सर्जरी प्रकरण गंभीर है सभी तथ्यों को शामिल कर जॉच करें: मंत्री श्री गौर भारत सरकार सोशल मीडिया पर -सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।