Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
दाऊद और हाफिज को भारत को सौंपे पाकिस्तान : वेंकैया नायडू पीएम मोदी ने दी इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई ISRO ने लॉन्च किया GSLV मार्क-3 सरकार ने कुछ गलत नहीं किया,बचाव की मुद्रा में आने की जरूरत नहीं-मोदी आजम ने माना, नरेंद्र मोदी बड़े दिल वाले राष्ट्रपति ने जीएसएलवी-मार्क III के सफल प्रक्षेपण पर इसरो को बधाई दी प्रधानमंत्री ने कतर के नागरिकों को उनके राष्ट्रीय दिवस पर बधाई दी नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस्पात पर परामर्श समिति की अध्यक्षता की अमरीकी कांग्रेस की सदस्य तुलसी गबार्ड की गृहमंत्री से मुलाकात निर्वाचन आयुक्त आर. परशुराम ने किया धार जिले में स्ट्रांग-रूम का निरीक्षण ग्राम पंचायत अरूसी एवं चेतूपाड़ा की मतदाता सूची बनाने का कार्यक्रम जारी बच्चों को शिक्षित के साथ संस्कारवान तथा संवेदनशील नागरिक बनाना जरूरी समुद्र के पानी को पीने योग्य बनाने पर हो चिंतन भोपाल में अंतर्राष्ट्रीय हर्बल मेला आज से विद्युत वितरण कंपनी का सहायक अभियंता निलंबित तकनीकी शिक्षा मंत्री श्री गुप्ता द्वारा 5 कार्य का भूमि-पूजन हताईखेड़ा में भोपाल का दूसरा सैर सपाटा तैयार प्रदेश में स्टूडेंट फोर्स का होगा गठन -गृह मंत्री श्री गौर मुरैना जिले के निर्वाचन चरणों में संशोधन धान की भूसी से विद्युत बनाना सरकार ने ऊर्जाक्षेत्र में सुधारों के लिए स्वतंत्र सरकारी कंपनी पोसोको बनाई जीएसएलवी एमके-3 के सफल प्रक्षेपण पर लोकसभा ने दी बधाई राष्ट्रीय सौर मिशन के अधीन विनिर्माताओं को राजसहायता उच्च शिक्षा मंत्री आज ग्वालियर में ई-रिक्शा गरीब लोगों के लिए बड़ी मददः नितिन गडकरी विकास और जनता के कल्याण में कोई कसर बाकी नहीं रहेगी पाकिस्तान ने आतंकवाद से लड़ने की प्रतिबद्धता का बनाया मजाक: भारत बांग्लादेश के राष्ट्रपति से मिले पीएम मोदी यूजीसी का निर्देश, विवि भी क्रिसमस पर मनाएं सुशासन दिवस 2021 तक हिंदू राष्ट्र होगा भारत: राजेश्वर सिंह प्रधानमंत्री ने गांधीवादी चुनीभाई वैद्य के निधन पर शोक व्यक्त किया प्रधानमंत्री ने गोवा मुक्ति दिवस पर गोवा के लोगों को शुभकामनाएं दी पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की उच्चस्तरीय समितिकी रिपोर्ट झारखंड में अंतिम चरण का मतदान शनिवार को अपराधों पर काबू पाने केलिए भारत-मंगोलिया को सहयोग बढ़ाने की जरूरत प्रदेश को आगे बढ़ाने पूरी क्षमता से करें काम - श्री चौहान बैरागढ़ के स्थान पर संत हिरदाराम नगर का होगा अधिक उपयोग महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फड़णवीस आज भोपाल आयेंगे संवीक्षा के बाद अभ्यर्थी एक जनवरी तक नाम वापस ले सकेंगे मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में 110 के उपचार की प्रक्रिया प्रारंभ शालाओं में विद्युत व्यवस्था दुरुस्त करने और सुरक्षा उपाय के निर्देश छिन्दवाड़ा जिले के निर्वाचन चरणों में संशोधन सत्ता में परिवर्तन के कारण भारत से उम्मीदें बढ़ी हैं: भागवत मानव को अंतरिक्ष में भेजने की दिशा में बढ़े भारत के कदम सरकार राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पाने के प्रति कटिबद्ध पहले सईद से निपटो, शिवसेना ने पाक से कहा मनरेगा को व्यवहारिक बनाया जा रहा है: सरकार मप्र में मुख्यमंत्री ग्रामीण परिवहन सेवा : परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह जिला प्रशासन द्वारा कलियासोत डेम के पास सीमांकन कार्य का अवलोकन आरक्षित सीट पर महिलाओं का बैठना सुनिश्चित हो पीएम मोदी का डिजिटल इंडिया मप्र में साकार : आईटी मंत्री भूपेन्द्र सिंह मप्र में महिलाओं के विरूद्ध अपराधों में जीरो टोलरेंस : गृह मंत्री गौर सुभाष नगर फाटक की बावड़ियों का होगा संरक्षण Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।