Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
माटी की सुंगध बिखेर रहा है माटी कला बोर्ड फ्यूचर ग्रुप इंदौर-भोपाल कॉरिडोर में उद्योग स्थापित करेगा किसान सम्मेलन में भाग लेंगे वन मंत्री डॉ. शेजवार समग्र पोर्टल के जरिये 5.11 करोड़ लोगों को खाद्य सुरक्षा योजना का लाभ भारत-चीन सम्बंध ‘‘इंच से मीलों की ओर’’ प्रधानमंत्री राष्‍ट्रीय राहत कोष में 15 करोड़ रुपये का योगदान उप्र में समाजवादी पार्टी का शानदार प्रदर्शन भारत और चीन के बीच बातचीत काफी अहम होगी: प्रधानमंत्री जम्‍मू-कश्‍मीर में बचाये गये लोगों की तादाद 2,37,000 के भी पार उप-चुनावों में नतीजे उम्मीदों के अनुरूप नहीं आए: भाजपा मध्यप्रदेश में नेशनल कामधेनु ब्रीडिंग सेन्टर खुले पिछले एक दशक में औद्योगिक अधोसंरचना विकास पर 745 करोड़ रुपये खर्च पर्यावरण मानदण्‍ड सख्‍त तथा व्‍यावहारिक बनाये जायें : श्री जावडेकर प्रधानमंत्री ने ऑस्‍ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट से टेलीफोन पर प्रदेश में वेट संशोधन अध्यादेश लागू बाढ़ पीड़ितों की सहायता हेतु प्रदेश में पखवाडा आयोजित किया जायेगा 14 लाख से ज्यादा किसान को मिलेगी बीमा दावा राशि कलराज मिश्र ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में मुख्य अतिथि होंगे प्रधानमंत्री ने नवीन गरीब हितकारी पहल-स्वावलंबन अभियान का शुभारंभ किया गृह मंत्री काठमांडू में आंतरिक/गृह सार्क मंत्रियों की बैठक में भाग लेंगे नरेंद्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर मां से आशीर्वाद लिया लालकृष्ण आडवाणी लोकसभा आचार समिति के नए अध्यक्ष चीन के राष्ट्रपति ने मोदी को जन्मदिन पर मुबारकबाद दी मध्यप्रदेश में अनेक मल्टीनेशनल कम्पनी सफलता से कर रही काम मध्यप्रदेश में गरीबी उन्मूलन के सफल प्रयासों को विश्व बेंक ने सराहा योजनाओं का अधिकतम लाभ वास्तविक हितग्राहियों तक पहुँचे समग्र छात्रवृत्ति के लिये डेढ़ करोड़ से अधिक बच्चों की मेपिंग सुपर 500 योजना हुई सुपर 5000 योजना प्रधानमंत्री और चीन के राष्‍ट्रपति की मौजूदगी में तीन एमओयू पर हस्‍ताक्षर केन्द्रीय भवन और अन्य निर्माण श्रमिक सलाहकार समिति की 16वीं बैठक प्रदेश में माँग की तुलना में बिजली की उपलब्धता ज्यादा उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा वाल्मीकी पार्क के विकास कार्य का भूमि-पूजन फसल बीमा योजना में और सुधार के प्रयास जारी अंतर सिंह आर्य ने दुआओं के बीच विदा किया हज-यात्रियों को चीन के राष्‍ट्रपति प्रधानमंत्री श्री मोदी के साथ साबरमती आश्रम देखने गए Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।