Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
बेंगलूरू में मुख्यमंत्री श्री चौहान का निवेशकों से सीधा संवाद श्रम मंत्री श्री आर्य प्रधानमंत्री जन-धन योजना का शुभारंभ करेंगे कोई भी व्यक्ति चुनाव लड़ने और वोट डालने के अधिकार से वंचित नहीं रहे वन मंत्री डॉ. शेजवार रायसेन में प्र. जन-धन योजना का शुभारंभ करेंगे समृद्धि की राह पर दतिया जिले की सिकरी ग्राम-पंचायत उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की राष्ट्रपति ने हिन्दी सेवी सम्मान प्रदान किये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारंभ करेंगे हरियाणा में अकेले ही चुनाव लड़ेंगे: भाजपा नव निर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान ने कार्यभार ग्रहण किया सुषमा स्वराज 28 अगस्त को भोपाल में प्रधानमंत्री जनधन योजना का शुभारंभ करेंगी मंत्री माया सिंह भिण्ड में प्रधानमंत्री जन-धन योजना का शुभारंभ करेंगी छात्रों को नैतिक मूल्यों पर आधारित शिक्षा देना आवश्यक PM द्वारा बेकार कानूनों की तीन माह में पहचान करने के लिए समिति गठित उपचुनावों के लिए कांग्रेस ने प्रत्याशी घोषित किये ‘डिजिटल इंडिया’ पर राज्‍यों के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रियों का सम्‍मेलन प्रधानमंत्री ने लालू प्रसाद यादव के जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना की श्री गेहलोत को संसदीय बोर्ड में लिये जाने पर मुख्यमंत्री ने दी बधाई मुख्यमंत्री श्री चौहान बैंगलुरू में यू.के. के उप प्रधानमंत्री से मिले राज्यपाल ने दी गणेश चतुर्थी पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ ड्रेस कोड है तो, उसका पालन करवायें वार्ड 45 दुर्गानगर में 4.50 लाख से बनेगी सी.सी. रोड प्रधानमंत्री शिन्जो एबे से मिलने के लिए उत्साहित Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।