Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
अब तक 11 फीसदी कम बारिश, खरीफ फसल प्रभावित होगी बैंकिंग प्रणाली के लिहाज से SBI और ICICI बैंक महत्वपूर्ण : RBI भारत के लिए एक अवसर है चीन की मंदी: मुख्य आर्थिक सलाहकार खेल मंत्रालय ने ‘योग’ को खेल के रूप में मान्यता दी अरूणाचल में बाढ़ से स्थिति बदतर, कई इलाकों में भरा पानी भूमि अध्यादेश फिर से लागू नहीं करने के फैसले को शिवसेना ने सराहा मुस्लिमों से हो रहे भेदभाव को दूर करे मोदी सरकार: उपराष्‍ट्रपति केन्द्रीय योजनाओं के लाभ से लोगों को वंचित कर रही ममता सरकार : नकवी J&K में अशांति के नये तरीके अपना रहा पाकिस्तान : सेना प्रमुख शहरी विकास मंत्रालय ने स्मार्ट नेशनल मोबिलिटी कार्ड का मॉडल प्रस्तुत किया इस्तीफा दें या माफी मांगें उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी : विश्व हिन्दू परिषद पीएम मोदी ने नीतीश-लालू पर जमकर साधा निशाना जनसुनवाई में 51 प्रकरणों का निराकरण कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी वेबसाइट पर वल्लभ भाई पटेल उद्यान में हुआ सामूहिक वन्देमातरम गायन गणवेश और साइकिल वितरण के प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने के निर्देश दूसरी, तीसरी में पढ़ने वाले बच्चों का होगा बेसलाइन सर्वे पदभार ग्रहण मुख्य सचिव द्वारा विश्व हिंदी सम्मेलन की तैयारियों की समीक्षा संभागायुक्त श्री सिंह ने विश्व हिन्दी सम्मेलन की तैयारियों की समीक्षा काम करने में असमर्थ प्राध्यापकों की सेवाएँ होंगी समाप्त मंत्री श्री गौर द्वारा चौथी नेशनल ड्रेगन बोट चेम्पियनशिप का शुभारंभ श्योपुर जिले के हुल्लपुर में सोलर एनर्जी प्लांट के लिये 15 हेक्टेयर जमीन राज्य स्तरीय शिक्षक दिवस के लिए बैठक हुई लंबित मामले समाधान ऑन लाइन में आते ही सुलझे सियासी वजहों से लैंड बिल पर कांग्रेस ने बदला रूख: वित्तमंत्री विश्व हिंदी सम्मेलन समितियों के सदस्य व मुख्य सूत्रधार Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।