Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
स्वेच्छानुदान निधि से आर्थिक सहायता 7 अप्रैल से शिविर लगाकर नि:शक्तजनों को कृत्रिम अंग दिये जायेंगे प्राकृतिक आपदा पीड़ित परिवारों को मिलेगा सार्वजनिक वितरण प्रणाली का लाभ 7 अप्रैल से प्रदेश के 15 जिलों में मिशन इन्द्रधनुष शुरू होगा प्रायवेट शालाओं में प्रवेश के लिए आवेदन की तिथि बढ़ी स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री जैन ने किया जिला चिकित्सालय राजगढ़ का निरीक्षण शासकीय योजनाओं का लाभ ग्रामीणों को मिलना सुनिश्चित करें- ऊर्जा मंत्री 170 अभियोजन अधिकारी पद की जल्द पूर्ति- मंत्री श्री गौर एम.एड., बी.पी.एड. और एम.पी.एड. में होगा ऑनलाइन प्रवेश प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना.. मंत्री श्रीमती सिंधिया ने किया 8वीं रिवर्स-बायर सेलर मीट का शुभारंभ वृद्धजन सम्मान संबंधी मूल्यों की पुनस्थापना जरूरी- मंत्री श्री गौर वाणिज्यिक कर विभाग को वेब रत्न अवार्ड गेहूँ उपार्जन केन्द्रों पर किसानों को परेशानी न हो- मुख्यमंत्री श्री चौहान कृषि विभाग में टॉस्क-फोर्स का गठन गैर अनुदान प्राप्त प्रायवेट स्कूलों के बच्चों की समग्र ID बनवाने के निर्देश आईआरएनएसएस-1डी का प्रक्षेपण 28 मार्च को : इसरो प्रमुख पीएम मोदी की फ्रांस, जर्मनी और कनाडा की यात्रा 9 अप्रैल से अन्ना जमीन विधेयक पर नरेंद्र मोदी से करना चाहते हैं बहस कानूनी दायरे के भीतर जाटों के आरक्षण संबंधी मामले का हल ढूंढेंगे : PM उमर ने वार्ता पर दिया जोर, बोले- कश्मीर मुद्दे का समाधान बंदूक से नहीं कांग्रेस का दोबारा खड़ा होना मुश्किल, 'बेचारी' सोनिया को दोष नहीं : हंसराज नीतीश ने पीएम नरेंद्र मोदी से की मुलाकात सागरमाला में 12 स्मार्ट शहर, तटीय आर्थिक क्षेत्र होंगे : गडकरी 27 को भारत रत्न से नवाजे जाएंगे पूर्व PM वाजपेयी गंगा कार्य योजना में नदी के सामाजिक आर्थिक पक्ष का भी ध्‍यान रखा जाएगा मप्र सरकार को ई-गवर्नेंस का भारत सरकार का वेब रत्‍न पुरस्‍कार मिला Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।