Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
सिविल न्यायाधीश वर्ग- दो के परीक्षा परिणाम घोषित 1984 में सिखों की हत्या से खुश हुए थे राजीव गांधी- उमा मोदी, राहुल ‘हेलीकॉप्टर राजनीति' कर रहे- केजरीवाल नरेंद्र मोदी पर बंद करें निजी हमले- अरुण जेटली बीजेपी का गुजरात मॉडल एक धोखा- अखिलेश 5 साल में चुनावी खर्च 1.5 लाख करोड़ रुपये के पार प्रियंका गांधी ने कहा बंद कमरे में महिलाओं के फोन सुनते हैं मोदी मतदाताओं को वैकल्पिक दस्तावेज प्रस्तुत करने की सुविधा,, बैतूल संसदीय क्षेत्र में डॉ. महेश अखाड़े व्यय प्रेक्षक एक करोड़ 64 लाख से अधिक मतदाता को वोटर स्लिप का वितरण सीईओ कार्यालय में तीसरे चरण के मतदान की प्रेस ब्रीफिंग लोकसभा चुनाव- छठे चरण में 12 राज्‍यों की 117 सीटों पर वोटिंग गुरुवार को भारत में राष्ट्रीय ज्ञान तीर्थ के रूप में प्रतिष्ठित हुआ सप्रे संग्रहालय निर्वाचन आयोग से तत्काल हस्तक्षेप कर आदेश निरस्त करने की मांग मतदान कर देश के राष्ट्रीय स्वाभिमान को उन्नत करें- श्री तोमर आदर्श मतदान केन्द्र पेश कर रहे है भविष्य के मतदान केन्द्रो की छबि मतदाताओं को लुभाने की फोटो, वीडियो-ऑडियो अब सीधे अपलोड होगी मतदान प्रतिशत जानने के लिये सीईओ की वेबसाइट पर लिंक उपलब्ध मप्र में तीसरे चरण में 416 मतदान केन्द्रों पर वेब-कास्टिंग होगी प्रशासकीय अधिकारी अब ऑनलाइन भर सकेंगे सी.आर. मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव का तीसरा और अंतिम चरण 24 अप्रैल को काश! प्रियंका के दुख को उनके भाई और मां भी समझे होते- जेटली देश चलाने के लिए चाहिये शेर जैसा कलेजा- राजनाथ रेल यात्रियों के लिए रेल विभाग ने शुरू की मोबाइल ऐप्लीकेशन लोकसभा चुनाव के साथ विदिशा विधानसभा उपचुनाव भी 24 अप्रैल को राजनैतिक दलों की 68 प्रतिशत से अधिक शिकायतों का निराकरण Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

चार नर्मदा परियोजनाओं को जल आयोग की स्वीकृति

MP POST:-25-02-2012
भोपाल।भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग ने नर्मदा घाटी की चार वृहद परियोजनाओं को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है। ये परियोजनाएँ हैं चिंकी, शेर, मच्छरेवा और शक्कर। आयोग ने इन परियोजनाओं के प्राथमिक प्रतिवेदनों के अध्ययन के बाद विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने के लिये नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण को सूचित किया है।
जिन परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है उनमें प्रस्तावित चिंकी परियोजना का निर्माण नर्मदा नदी पर ग्राम पिपरिया के पास नरसिंहपुर जिले में होगा। परियोजना के निर्माण से रायसेन और नरसिंहपुर जिलों में 73 हजार 979 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसके साथ ही परियोजना से 15 मेगावाट जल विद्युत का उत्पादन भी किया जा सकेगा। आरम्भिक अनुमान के अनुसार परियोजना की लागत लगभग 600 करोड़ रूपये है।
स्वीकृत शेर परियोजना नरसिंहपुर जिले में नर्मदा की सहायक शेर नदी पर और मच्छरेवा परियोजना इसी जिले में नर्मदा की सहायक मच्छरेवा नदी पर प्रस्तावित है। शक्कर परियोजना छिन्दवाड़ा जिले में नर्मदा की सहायक शक्कर नदी पर प्रस्तावित है। यह तीनों परियोजनाएँ एक काम्पलेक्स के रूप में निर्मित होगी। इनके जलाशयों से सिंचाई जल कामन मुख्य नहर में प्रवाहित होकर 64 हजार 800 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित करेगा। सम्मिलित रूप से इन परियोजनाओं की लागत 650 करोड़ रूपये आँकी गई है।
नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री ओ.पी. रावत ने बताया कि इन चार परियोजनाओं की सैद्धांतिक सहमति वृहद परियोजनाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण कदम है। इन परियोजनाओं के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किये जायेंगे। श्री रावत ने बताया कि प्राधिकरण ने परियोजनाओं के अनुमोदन, निर्माण और परियोजना लाभ को केन्द्रित कर बहुआयामी रणनीति लागू की है। लक्ष्य है मध्यप्रदेश को आवंटित जल के उपयोग को वर्ष 2020 तक सुनिश्चित करना।