Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
एरिक्सन को भारती एयरटेल से मिला 3जी, 4जी का अनुबंध मणिपुरी छात्रों ने पूर्वोत्तर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की भाजपा-आरएसएस की बैठक संविधान का ‘उपहास’ : आम आदमी पार्टी ‘स्मार्ट सिटी’ परियोजना ने गांवों को नजरअंदाज किया : अखिलेश यादव हड़ताल से देश के कई हिस्सों में जनजीवन प्रभावित आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि 7 सितंबर तक बढ़ायी गयी मोदी शासन के मुरीद हुए पाक अधिकृत कश्मीर के बाशिंदे एच.टी. कनेक्शन के लिए 97 आवेदक ने करवाया रजिस्ट्रेशन त्योहारों के दौरान झाँकी में अस्थायी कनेक्शन लेने की अपील नैक द्वारा मूल्यांकित 4 महाविद्यालय को 10-10 लाख की प्रोत्साहन राशि अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति आवेदन तिथि बढ़ी,, श्रम विभाग पोर्टल पर विभिन्न सेवाएँ ऑनलाइन उपलब्ध भोपाल, इंदौर और जबलपुर में एक-एक और उपभोक्ता फोरम प्रदेश का पहला स्कॉडा कंट्रोल सेंटर भोपाल में 1700 शिक्षक सम्मानित राज्य अतिथियों के लिये होंगे पृथक-पृथक लायजनिंग ऑफिसर गृह मंत्री श्री गौर ने भोपाल के यातायात को सुगम बनाने की समीक्षा की प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारियों की मुख्य सचिव ने ली जानकारी विकास के लिये तलाशें सहकारिता के नये क्षेत्र रतलाम में फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना की जायेगी ईमानदार कर्मचारियों का पूरा सम्मान हो- मुख्यमंत्री श्री चौहान भारतीय हॉकी को विश्व में नम्बर-1 बनाने के लिये हर संभव मदद गरिमापूर्ण और भव्य होगा विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन रामायण, महाभारत, शहीदों पर डाक टिकट जारी होंगे: प्रसाद पाकिस्‍तान के यूएन में कश्मीर मुद्दा उठाने पर भारत ने जताई आपत्ति प्रवीण तोगड़िया का विवादित लेख बिहार विधानसभा चुनाव पर सपा से मतभेद दूर कर लिया जाएगा : JDU सोनिया की वजह से मुलायम ने छोड़ा बिहार में महागठबंधन का साथ? सभी समस्याओं का हल बातचीत के जरिये ही निकाला जा सकता है: PM ऊंची वृद्धि के लिए बुनियादी ढांचे में निवेश जरूरी : प्रणब मुखर्जी जन्माष्टमी का अवकाश घोषित वंचित विद्यार्थियों के लिये छात्रवृत्ति पोर्टल से ऑनलाइन आवेदन 15 तक प्रदेश में 10 हजार मेगावॉट से अधिक विद्युत माँग की आपूर्ति की व्यवस्था श्री तिवारी डायरेक्टर टेक्नि‍कल नियुक्त श्रमिक हितों-निवेश प्रोत्साहन के लिये हुआ श्रम कानूनों में संशोधन शासकीय उचित मूल्य दुकान के आवंटन की कार्यवाही 30 सितम्बर तक आई.टी.आई. में सुधार के लिये ए.डी.बी. से मिलेंगे 993 करोड़ श्री भूपेन्द्र आर्य द्वारा अनुसूचित-जाति आयोग अध्यक्ष पद का कार्यभार ग्रहण उप सचिव श्री ओ.पी. श्रीवास्तव को अतिरिक्त प्रभार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को उज्जैन पर केन्द्रित पुस्तक भेंट हरदा बनेगा मिनी स्मार्ट-सिटी प्रदेश को स्वच्छ, नशामुक्त बनायें और वृक्षारोपण करें मंत्री श्री गौर नेशनल ड्रेगन बोट चेम्पियनशिप के समापन में शामिल हुए कॉलेजों में सीसीटीव्ही लगवाने के निर्देश सेवा संबंधी प्रकरणों में आवेदकों को राहत देने के निर्देश हिलेरी के ई-मेल सार्वजनिक, भारत के प्रति क्या सोचता है अमेरिका स्मार्ट सिटी वही है जैसा नागरिक अपने शहर को बनाना चाहते हैं- नायडू चुने हुए प्रतिनिधि शहर के सर्वांगीण विकास में भागीदार बनें विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी के लोकव्यापीकरण का बनेगा माध्यम Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मध्यप्रदेश की आईटी नीति में संशोधन-मंत्री विजयवर्गीय

MP POST:-13-03-2012
भोपाल।मध्यप्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के उद्देश्य से सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 जारी की थी। इस नीति के प्रावधान में आज से आंशिक संशोधन किया गया है। इस संबंध में राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने राज्य विधानसभा में मंगलवार 13 मार्च 2012 को सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में संशोधन के संबंध में वक्तव्य दिया।
आईटी मंत्री श्री विजयवर्गीय ने विधानसभा में कांग्रेस द्वारा किये जा रहे भारी शोरगुल के बीच सदन को अवगत कराया कि मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में विकसित क्षेत्र पर प्रति एकड़ न्यूनतम 350 व्यक्तियों को रोजगार देने की अनिवार्यता को शिथिल करते हुए इसे न्यूनतम 100 इंजीनियर्स, आईटी, आईटीईएस प्रोफेशनल्स प्रति एकड़ किया जा रहा है।
उन्होंने सदन को बताया कि वर्तमान में शासन निर्देशों के अनुसार नैस्कॉम सूची में दर्ज शीर्ष कम्पनियों को छोड़कर शेष आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में भूमि के बाजार मूल्य एवं कम्पनी के लिए निर्धारित रियायती मूल्य के अंतर की राशि की बैंक गारंटी के लिये जाने का प्रावधान है। उक्त प्रावधान को शिथिल करते हुए अब आईटी कम्पनियों से बैंक गारंटी प्राप्त करने की अनिवार्यता को समाप्त किया जा रहा है। कंपनी द्वारा भूमि के संभावित दुरूपयोग को रोकने के लिए लीज डीड में समुचित प्रावधान किये जायेगें।