Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
सिविल न्यायाधीश वर्ग- दो के परीक्षा परिणाम घोषित 1984 में सिखों की हत्या से खुश हुए थे राजीव गांधी- उमा मोदी, राहुल ‘हेलीकॉप्टर राजनीति' कर रहे- केजरीवाल नरेंद्र मोदी पर बंद करें निजी हमले- अरुण जेटली बीजेपी का गुजरात मॉडल एक धोखा- अखिलेश 5 साल में चुनावी खर्च 1.5 लाख करोड़ रुपये के पार प्रियंका गांधी ने कहा बंद कमरे में महिलाओं के फोन सुनते हैं मोदी मतदाताओं को वैकल्पिक दस्तावेज प्रस्तुत करने की सुविधा,, बैतूल संसदीय क्षेत्र में डॉ. महेश अखाड़े व्यय प्रेक्षक एक करोड़ 64 लाख से अधिक मतदाता को वोटर स्लिप का वितरण सीईओ कार्यालय में तीसरे चरण के मतदान की प्रेस ब्रीफिंग लोकसभा चुनाव- छठे चरण में 12 राज्‍यों की 117 सीटों पर वोटिंग गुरुवार को भारत में राष्ट्रीय ज्ञान तीर्थ के रूप में प्रतिष्ठित हुआ सप्रे संग्रहालय निर्वाचन आयोग से तत्काल हस्तक्षेप कर आदेश निरस्त करने की मांग मतदान कर देश के राष्ट्रीय स्वाभिमान को उन्नत करें- श्री तोमर आदर्श मतदान केन्द्र पेश कर रहे है भविष्य के मतदान केन्द्रो की छबि मतदाताओं को लुभाने की फोटो, वीडियो-ऑडियो अब सीधे अपलोड होगी मतदान प्रतिशत जानने के लिये सीईओ की वेबसाइट पर लिंक उपलब्ध मप्र में तीसरे चरण में 416 मतदान केन्द्रों पर वेब-कास्टिंग होगी प्रशासकीय अधिकारी अब ऑनलाइन भर सकेंगे सी.आर. मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव का तीसरा और अंतिम चरण 24 अप्रैल को काश! प्रियंका के दुख को उनके भाई और मां भी समझे होते- जेटली देश चलाने के लिए चाहिये शेर जैसा कलेजा- राजनाथ रेल यात्रियों के लिए रेल विभाग ने शुरू की मोबाइल ऐप्लीकेशन लोकसभा चुनाव के साथ विदिशा विधानसभा उपचुनाव भी 24 अप्रैल को राजनैतिक दलों की 68 प्रतिशत से अधिक शिकायतों का निराकरण छठे चरण में कड़ी सुरक्षा के बीच 12 राज्‍यों की 117 सीटों पर वोटिंग जारी सोमनाथ भारती पर हमले के लिए बीजेपी पर बरसे केजरीवाल नरेंद्र मोदी ने भव्य रोड शो के बाद दाखिल किया अपना नामांकन केंद्र ने SC से कहा-लोकपाल की नियुक्ति पर तुरंत कोई निर्णय नहीं देश में मोदी की कोई लहर नहीं, ये मीडिया की उपज- प्रधानमंत्री चार यंत्रियों का निलंबन आगे बढ़ने के लिए छात्रों को संसाधन उपलब्ध करवाना आवश्यक मतदान में भाग लेकर खुश दिखे बॉलीवुड एक्‍टर्स मोदी ने वाराणसी के बुनकरों से किया मदद का वादा चुनाव आयोग ने बेनी, कटियार को नोटिस भेजा महिलाओं की इज्जत नहीं करती मोदी सरकार- राहुल जनजातीय अंचल की सभी 6 सीटों पर भगवा परचम फहरायेगा बढ़े मतदान प्रतिशत में बदलाव का संकेत अंर्तनिहित है- लता वानखेड़े श्री नरेन्द्र मोदी के पक्ष में पूरे देश में लहर- श्री तोमर सीएम श्री चौहान ने अपने गृह ग्राम जैत में किया मतदान सोनिया गांधी के दस लाख रुपये के करमुक्त रेल बांड हुए गुम मोदी सिर्फ अपनी कुर्सी के लिए चिंतित : सोनिया मुख्य सचिव ने की नागरिकों से भेंट मप्र के पार्टी पदाधिकारी, संगठन मंत्री, कार्यकर्ता उप्र चुनाव प्रचार में सिर्फ कुछ उद्योगपतियों की चिंता न करें अगले पीएम- लॉर्ड पॉल प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष अरूण यादव ने माना प्रदेश के मतदाताओं का आभार राज्य निर्वाचन आयोग में आज से EVM की कार्य-प्रणाली, संचालन का प्रशिक्षण शासकीय शिक्षण संस्थाओं के लिये अवकाश घोषित मतदाताओं को भाया आदर्श मतदान केन्द्र मप्र में दस संसदीय क्षेत्र के मतदान में मतदाताओं ने उत्साहपूर्वक लिया भाग मोदी की सुनामी में बह जाएगी सपा, बसपा, कांग्रेस- अमित शाह सोनिया ने 2004 में देश को धोखा दिया- राजनाथ सिंह विदिशा विधानसभा उपचुनाव में 67.75 प्रतिशत मतदान हुआ मप्र में तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में 64.04 प्रतिशत मतदान भाजपा और मोदी एक दूसरे के पूरक- मुख्यमंत्री शिवराज Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मध्यप्रदेश की आईटी नीति में संशोधन-मंत्री विजयवर्गीय

MP POST:-13-03-2012
भोपाल।मध्यप्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के उद्देश्य से सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 जारी की थी। इस नीति के प्रावधान में आज से आंशिक संशोधन किया गया है। इस संबंध में राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने राज्य विधानसभा में मंगलवार 13 मार्च 2012 को सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में संशोधन के संबंध में वक्तव्य दिया।
आईटी मंत्री श्री विजयवर्गीय ने विधानसभा में कांग्रेस द्वारा किये जा रहे भारी शोरगुल के बीच सदन को अवगत कराया कि मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में विकसित क्षेत्र पर प्रति एकड़ न्यूनतम 350 व्यक्तियों को रोजगार देने की अनिवार्यता को शिथिल करते हुए इसे न्यूनतम 100 इंजीनियर्स, आईटी, आईटीईएस प्रोफेशनल्स प्रति एकड़ किया जा रहा है।
उन्होंने सदन को बताया कि वर्तमान में शासन निर्देशों के अनुसार नैस्कॉम सूची में दर्ज शीर्ष कम्पनियों को छोड़कर शेष आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में भूमि के बाजार मूल्य एवं कम्पनी के लिए निर्धारित रियायती मूल्य के अंतर की राशि की बैंक गारंटी के लिये जाने का प्रावधान है। उक्त प्रावधान को शिथिल करते हुए अब आईटी कम्पनियों से बैंक गारंटी प्राप्त करने की अनिवार्यता को समाप्त किया जा रहा है। कंपनी द्वारा भूमि के संभावित दुरूपयोग को रोकने के लिए लीज डीड में समुचित प्रावधान किये जायेगें।