Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
रानी दुर्गावती है न शहडोल संभाग के आदिवासी तब और अब पुस्तक का विमोचन अतिथि विद्वानों का ऑनलाइन आमंत्रण 5 अगस्त तक कलेक्टर करेंगे जिलों में पाठ्य-पुस्तक वितरण की समीक्षा 1 से 7 अगस्त तक प्रदेश में विश्व स्तनपान सप्ताह प्रायवेट स्कूलों की खाली सीटों पर कमजोर वर्ग के बच्चों को प्रवेश मिलेगा भारत भवन में होंगे स्वतंत्रता दिवस की शाम सांस्कृतिक कार्यक्रम सीएम हेल्पलाइन का सफल एक साल दो उप सचिव की नवीन पद-स्थापना सार्वजनिक वितरण प्रणाली की द्वार प्रदाय योजना का सभी 51 जिले में विस्तार यात्रियों के मनपसंद बिस्तर के लिए रेलवे ने शुरू किया ऑनलाइन सर्वेक्षण पाकिस्‍तान ने अब पुंछ में तोड़ा सीजफायर सोने की कीमतों में लगातार गिरावट जारी सरकार और न्यायपालिका की साख दांव पर : दिग्विजय का ट्वीट गुरदासपुर में हमला करने वाले आतंकी रावी नदी के जरिये पाकिस्‍तान से आए थे दिग्विजय और शशि थरूर के बयान जनता का अपमान : भाजपा अब्‍दुल कलाम रामेश्‍वरम में हुए सुपुर्द-ए-खाक सरकार ने कर्मचारियों से कहा: संपत्तियों का ब्यौरा 15 अक्टूबर तक दें कड़ी सुरक्षा के बीच दफनाया गया याकूब का शव संसद में गतिरोध दूर करने के लिए सर्वदलीय बैठक जारी श्रवण-बाधित अभ्यर्थियों का पंजीयन 4 अगस्त तक सर्विस वोटर की नामावली में 8361 नाम जोड़े गये उच्च शिक्षा मंत्री ने मेधावी बच्चों को किया सम्मानित जनसंपर्क मंत्री श्री शुक्ल द्वारा गुरू पूर्णिमा पर बधाई अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर 10 रुपये का सिक्का जारी करेगा रिजर्व बैंक पीएम ने चीनी पर्यटकों के लिए ई वीजा सुविधा शुरू करने की घोषणा की Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मध्यप्रदेश की आईटी नीति में संशोधन-मंत्री विजयवर्गीय

MP POST:-13-03-2012
भोपाल।मध्यप्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के उद्देश्य से सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 जारी की थी। इस नीति के प्रावधान में आज से आंशिक संशोधन किया गया है। इस संबंध में राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने राज्य विधानसभा में मंगलवार 13 मार्च 2012 को सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में संशोधन के संबंध में वक्तव्य दिया।
आईटी मंत्री श्री विजयवर्गीय ने विधानसभा में कांग्रेस द्वारा किये जा रहे भारी शोरगुल के बीच सदन को अवगत कराया कि मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में विकसित क्षेत्र पर प्रति एकड़ न्यूनतम 350 व्यक्तियों को रोजगार देने की अनिवार्यता को शिथिल करते हुए इसे न्यूनतम 100 इंजीनियर्स, आईटी, आईटीईएस प्रोफेशनल्स प्रति एकड़ किया जा रहा है।
उन्होंने सदन को बताया कि वर्तमान में शासन निर्देशों के अनुसार नैस्कॉम सूची में दर्ज शीर्ष कम्पनियों को छोड़कर शेष आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में भूमि के बाजार मूल्य एवं कम्पनी के लिए निर्धारित रियायती मूल्य के अंतर की राशि की बैंक गारंटी के लिये जाने का प्रावधान है। उक्त प्रावधान को शिथिल करते हुए अब आईटी कम्पनियों से बैंक गारंटी प्राप्त करने की अनिवार्यता को समाप्त किया जा रहा है। कंपनी द्वारा भूमि के संभावित दुरूपयोग को रोकने के लिए लीज डीड में समुचित प्रावधान किये जायेगें।