Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मध्यप्रदेश में ई-नगर पालिका योजना जल्द : मंत्री श्री विजयवर्गीय पाकिस्तान ने आतंकवाद से लड़ने की प्रतिबद्धता का बनाया मजाक: भारत बांग्लादेश के राष्ट्रपति से मिले पीएम मोदी यूजीसी का निर्देश, विवि भी क्रिसमस पर मनाएं सुशासन दिवस 2021 तक हिंदू राष्ट्र होगा भारत: राजेश्वर सिंह प्रधानमंत्री ने गांधीवादी चुनीभाई वैद्य के निधन पर शोक व्यक्त किया प्रधानमंत्री ने गोवा मुक्ति दिवस पर गोवा के लोगों को शुभकामनाएं दी पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की उच्चस्तरीय समितिकी रिपोर्ट झारखंड में अंतिम चरण का मतदान शनिवार को अपराधों पर काबू पाने केलिए भारत-मंगोलिया को सहयोग बढ़ाने की जरूरत प्रदेश को आगे बढ़ाने पूरी क्षमता से करें काम - श्री चौहान बैरागढ़ के स्थान पर संत हिरदाराम नगर का होगा अधिक उपयोग महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फड़णवीस आज भोपाल आयेंगे संवीक्षा के बाद अभ्यर्थी एक जनवरी तक नाम वापस ले सकेंगे मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में 110 के उपचार की प्रक्रिया प्रारंभ शालाओं में विद्युत व्यवस्था दुरुस्त करने और सुरक्षा उपाय के निर्देश छिन्दवाड़ा जिले के निर्वाचन चरणों में संशोधन सत्ता में परिवर्तन के कारण भारत से उम्मीदें बढ़ी हैं: भागवत मानव को अंतरिक्ष में भेजने की दिशा में बढ़े भारत के कदम सरकार राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पाने के प्रति कटिबद्ध पहले सईद से निपटो, शिवसेना ने पाक से कहा मनरेगा को व्यवहारिक बनाया जा रहा है: सरकार मप्र में मुख्यमंत्री ग्रामीण परिवहन सेवा : परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह जिला प्रशासन द्वारा कलियासोत डेम के पास सीमांकन कार्य का अवलोकन आरक्षित सीट पर महिलाओं का बैठना सुनिश्चित हो पीएम मोदी का डिजिटल इंडिया मप्र में साकार : आईटी मंत्री भूपेन्द्र सिंह मप्र में महिलाओं के विरूद्ध अपराधों में जीरो टोलरेंस : गृह मंत्री गौर सुभाष नगर फाटक की बावड़ियों का होगा संरक्षण भारत ने 1000 किग्रा का गाइडेड ग्लाइड बम का किया परीक्षण रिचर्ड वर्मा ने भारत में अमेरिकी राजदूत के तौर पर शपथ ली जबरन धर्मांतरण के खिलाफ है भाजपा : अमित शाह दुनिया के चार बड़े नेताओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल महिलाओं, बच्चों की सुरक्षा के लिए मोबाइल एप्प ‘जिमान’ लॉन्च झारखंड में आखिरी चरण का मतदान खत्म, जम्मू में जारी एकल महिला के लिए सामाजिक सुरक्षा योजनाएं वित्त मंत्री ने संविधान संशोधन विधेयक लोक सभा में पेश किया बेहतर कानून-व्यवस्था से विकास का सकारात्मक वातावरण बना अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री मोदी मुलाकात की भूले-भटकों को वापस लाएंगेः भागवत समुद्री सीमा को महफूज रखना जरूरी: राव इंद्रजीत माण्डू उत्सव की तीसरी शाम सैनिक स्कूल रीवा के केडेट्स का देश की सुरक्षा में अमूल्य योगदान एग्जिट पोल के अनुसार, झारखंड में भाजपा की सरकार मप्र में नवीन सड़कें, ई-टेण्डरिंग, ई-पैमेंट, आनलाईन पंजीयन-मंत्री श्री सिंह मोदी के अमेरिकी दौरे ने भारत की क्षमता दिखाई : तुलसी गबार्ड मप्र में ओएमटी के अंतर्गत सड़कों के संधारण के लिए नया माडल- PWD मंत्री पंचायत निर्वाचन कार्यक्रम में आंशिक संशोधन मप्र में युवा इंजीनियर कांट्रेक्टर योजना - लोक निर्माण मंत्री सरताज सिंह मप्र शासन की सड़कों के संधारण के लिए प्राथमिकता-PWD मंत्री सरताज सिंह Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मध्यप्रदेश की आईटी नीति में संशोधन-मंत्री विजयवर्गीय

MP POST:-13-03-2012
भोपाल।मध्यप्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के उद्देश्य से सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 जारी की थी। इस नीति के प्रावधान में आज से आंशिक संशोधन किया गया है। इस संबंध में राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने राज्य विधानसभा में मंगलवार 13 मार्च 2012 को सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में संशोधन के संबंध में वक्तव्य दिया।
आईटी मंत्री श्री विजयवर्गीय ने विधानसभा में कांग्रेस द्वारा किये जा रहे भारी शोरगुल के बीच सदन को अवगत कराया कि मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी नीति 2006 में आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में विकसित क्षेत्र पर प्रति एकड़ न्यूनतम 350 व्यक्तियों को रोजगार देने की अनिवार्यता को शिथिल करते हुए इसे न्यूनतम 100 इंजीनियर्स, आईटी, आईटीईएस प्रोफेशनल्स प्रति एकड़ किया जा रहा है।
उन्होंने सदन को बताया कि वर्तमान में शासन निर्देशों के अनुसार नैस्कॉम सूची में दर्ज शीर्ष कम्पनियों को छोड़कर शेष आईटी कम्पनियों को भूमि आवंटन की स्थिति में भूमि के बाजार मूल्य एवं कम्पनी के लिए निर्धारित रियायती मूल्य के अंतर की राशि की बैंक गारंटी के लिये जाने का प्रावधान है। उक्त प्रावधान को शिथिल करते हुए अब आईटी कम्पनियों से बैंक गारंटी प्राप्त करने की अनिवार्यता को समाप्त किया जा रहा है। कंपनी द्वारा भूमि के संभावित दुरूपयोग को रोकने के लिए लीज डीड में समुचित प्रावधान किये जायेगें।