Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
शिल्पगुरू पुरस्कार योजना की प्रविष्टियाँ 30 सितम्बर तक निर्वाचन अधिकारियों और मास्टर ट्रेनर की दो दिन की ट्रेनिंग उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा नेहरू नगर में दशहरा और रामलीला मैदान का अवलोकन असामाजिक तत्वों की धरपकड़ हो: गृह मंत्री श्री गौर प्रदेश के 34 जिले में किसान सम्मेलन होंगे बुन्देलखण्ड पेकेज में प्रभावी क्रियान्वयन के लिये समिति पुनर्गठित PM ने अभियन्‍ताओं से अपनी अभियांत्रिकी को विश्‍वस्‍तरीय बनाने का आग्रह किया नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड के बच्चों ने उपराष्ट्रपति से मुलाकात की भारत और वियतनाम के बीच सात समझौतों पर हस्ताक्षर कश्मीर में ट्रेन सेवाएं आंशिक रूप से बहाल गृह मंत्री ने आरईपीसीओ बैंक से 15.26 करोड़ रूपए का लाभांश प्राप्ती किया बौद्ध धर्म चीन और भारत के बीच अत्‍यंत मजबूत कड़ी : प्रधानमंत्री 12 देश के राजदूत करेंगे शिरकत डॉ. अम्बेडकर स्मृति सम्मान पुरस्कार के लिए जूरी गठित नगरपालिका परिषद् डबरा का मतदाता सूची कार्यक्रम संशोधित ज्यादा से ज्यादा किसान कृषि महोत्सव में भाग लें प्रदर्शनी के लिये कलाकृतियाँ आमंत्रित जम्मू-कश्मीर में बचाये गये लोगों की संख्या 2,26,000 से ऊपर भाजपा को 135 सीटें देना असंभव, लेकिन गठबंधन बरकरार रहे: उद्धव जयप्रकाश चिकित्सालय की व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाया जाये पुलिस कर्मी नियमित गश्त करें, पुलिस थानों का सौंदर्यीकरण बढ़ाएं डब्ल्यूपीआई पिछले 5 वर्षों में सबसे निचले स्तर पर - नंदकुमार सिंह पार्टी हर कार्यकर्ता की सुध लेती है- मेघराज जैन डिप्लोमा इंजीनियर्स की समस्याएँ हल होंगी Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

कल खुलेगा रेल बजट का पिटारा

MP POST:-13-03-2012
नई दिल्ली। रेल बजट को आने में अब महज चौबीस घंटे बचे हैं। मंगलवार को केंद्रीय रेल मंत्री सदन में रेल बजट पेश करेंगे। वहीं रेल बजट को लेकर कई तरह के कयास भी लगाए जा रहे हैं। इस रेल बजट में बुलेट ट्रेन चलाने जैसे प्रावधानों के होने की उम्मीद जताई जा रही है। उम्मीद यह भी है कि कई जगहों पर डबल डेकर ट्रेन देखने को मिल जाएं। वहीं रेल सुरक्षा को लेकर भी सभी को काफी उम्मीदें हैं। वहीं नजरें रेलवे के मालभाडे़ पर और किराए पर भी टिकी हैं।
रेल बजट से पूर्व में आई सैम पित्रोदा कमेटी की रिपोर्ट में रेल सुरक्षा को लेकर कई चिंताएं जताई गई हैं। रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि यदि रेलवे ने सुरक्षा नियमों में अनदेखी की तो भारतीय रेल और अधिक घाटे में चली जाएगी जिसका खामियाजा सरकार को भुगतना होगा। तृणमूल कांग्रेस को भी इस रेल बजट से काफी उम्मीदें जुड़ी हैं। उम्मीद यह भी है कि रेल मंत्री उत्तर पूर्व के लिए कुछ पेशकश भी कर सकते हैं।
सैम कमेटी की रिपोर्ट में न सिर्फ रेल की सुरक्षा को बढ़ाने पर जोर दिया गया है वहीं रिपोर्ट में रेलवे के आधुनिकीकरण को भी तेज करने पर जोर दिया गया है। रिपोर्ट में करीब बीस हजार किलोमीटर रेलवे लाईन के साथ-साथ कई रेलवे क्रासिंग को भी अपग्रेड करने पर जोर दिया गया है। रिपोर्ट में रेल में बढ़ रहे आपराधिक मामलों को रोकने के लिए रेलवे पुलिस फोर्स के आधुनिकीकरण की जोरदार वकालत की गई है।
रेल से सफर करने वाले यात्रियों की नजरें रेल के आधुनिकीकरण के साथ मिलने वाली सुविधा को बढ़ाने पर भी टिकी हैं। इस रेल बजट में स्टेशनों और रेल की साफ सफाई पर भी ध्यान दिए जाने की पूरी उम्मीद है।