Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
सभी जिलों में नवीनतम विधियों से पशु रोगों के परीक्षण की व्यवस्था का विस्तार भूतपूर्व सैनिक अपने बच्चों के लिए प्रधानमंत्री छात्र योजना में आवेदन करें दीपावली पर प्रदेश में सुचारु और गुणवत्तापूर्ण बिजली आपूर्ति के इंतजाम प्रधानमंत्री ने एम्‍स के 42वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया वस्‍त्र मंत्री ने ‘सिल्‍क फैब’ प्रदर्शनी का उद्घाटन किया गृह मंत्री राजनाथ सिंह का मुंबई दौरा स्थगित नगरीय निकाय एवं पंचायत निर्वाचन मुख्यमंत्री ने भेल स्थित दशहरा मैदान में भूमिपूजन किया एम्‍स के 42वें दीक्षांत समारोह के दौरान प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ उन्नत खेती मध्यप्रदेश के विकास का आधार अध्यापक संवर्ग एवं पंचायत सचिवों के महँगाई भत्ते में 7 प्रतिशत वृद्धि केंद्र सरकार कामगारों के हि‍तों की रक्षा के लि‍ए प्रति‍बद्ध है: श्री तोमर प्रधानमंत्री 6 नवंबर को विश्व आयुर्वेद सम्मेलन का उद्घाटन करेगें जैविक खेती में प्रदेश देश ही नहीं विश्व में स्थान बनायेगा PM ने इंडोनेशिया के राष्ट्रपति पद की शपथ लेने पर जोको विडोडो को बधाई दी नि‍र्मला सीतारमन ने कॉफी बोर्ड के ई-सुशासन प्रयासों पर वेबसाईट लॉन्‍च की स्वास्थ्य मंत्री ने जानी डेंगू नियंत्रण की स्थिति नागरिक जिम्मेदारी निभाएँ तो लूट की वारदातें नहीं होंगी आईआईएमसी को संचार विश्वविद्यालय के रूप में उन्नत किया जाएगा: श्री जावड़ेकर Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।