Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
राज्यपाल ने दी गणेश चतुर्थी पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ ड्रेस कोड है तो, उसका पालन करवायें वार्ड 45 दुर्गानगर में 4.50 लाख से बनेगी सी.सी. रोड प्रधानमंत्री शिन्जो एबे से मिलने के लिए उत्साहित राष्ट्रपति कल राष्ट्रीय खेल पुरस्कार प्रदान करेंगे उपराष्ट्रपति ने गणेश चतुर्थी देश को दी बधाई नरेंद्र मोदी आज प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारंभ करेंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा गणेश चतुर्थी पर प्रदेशवासियों को बधाई लोक सेवा प्रदाय गारंटी कानून के दायरे में, निवेशकों को मिलने वाली सेवाएँ जनधन योजना आर्थिक रूप से समृद्ध भारत की परिचायक होगी- नंदकुमारसिंह चौहान प्रदेश के चार जिले में लागू होगी आधार नम्बर की वितरण व्यवस्था प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरुआत स्‍कूलों में पौष्‍टिक भोजन की उपलब्‍धता मध्यप्रदेश में 93.86 प्रतिशत हेंडपम्प चालू हालत में रक्षा मंत्री ने मुंबई में स्‍वदेशी पनडुब्‍बी निर्माण की समीक्षा की श्री तोमर कौशल विकास पर राष्‍ट्रीय परामर्श कार्यशाला की अध्यक्षता करेंगे प्रधानमंत्री जन-धन योजना गरीबों के अच्छे दिन लायेगी गणेश चतुर्थी के अवसर पर राष्ट्रपति ने देशवासियों को बधाई दी Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।