Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
संसद का बजट सत्र 23 फरवरी से होगा शुरू PM मोदी के CM रहने के दौरान हुए भूमि आवंटनों की जांच हो: कांग्रेस उप्र में मंदिर नहीं विकास मुद्दे पर चुनाव लड़ेंगे: कलराज आनंदीबेन की बेटी ने कहा- सरकार से फायदा नहीं लिया कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए दूसरी हरित क्रांति की जरुरत: नीति आयोग बजट में 7वें वेतन आयोग और OROP को देगें 1.10 लाख करोड़ बुनियादी ढांचे के विकास पर खर्च बढ़ाएं राज्य: वित्तमंत्री इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू-2016 का भव्य आगाज प्रदेश में नाप-तौल निरीक्षण से 9.61 करोड़ की आय दुपहिया वाहन के साथ हेलमेट पर भी मिल सकेगा फायनेन्स सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों का डाटा सत्यापन होगा ओ.एम.आर. शीट की कापी ई-मेल से भेजी जायेगी मध्यप्रदेश के सभी जिले सिविल डिफेंस जिला घोषित सतना में दो डिप्टी कलेक्टर पदस्थ सिंहस्थ के लिये दो-दिवसीय आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण 29 फरवरी से उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा विकास कार्यों की समीक्षा वन मंत्री ने लिया महा सम्मलेन की तैयारियों का जायजा राज्य शासन ने श्रीमती अरुणा शर्मा की सेवाएँ केन्द्र को सौंपी भाप्रसे अधिकारी श्री खाण्डेकर और श्रीमती उपाध्याय को अतिरिक्त प्रभार होशंगाबाद में पीपीपी मोड पर ग्रीन फील्ड औद्योगिक क्षेत्र का विकास ऑनलाइन होगी नवम्बर 2016 की पॉलीटेक्निक और इंजीनियरिंग परीक्षा तेन्दूपत्ता संग्राहकों तथा वन समितियों के सदस्यों का महा सम्मेलन 7 को लंबित परियोजनाओं में तेजी से कार्रवाई के निर्देश भाप्रसे 2012 बैच के 16 अधिकारी को वरिष्ठ समय वेतनमान Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।