Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
शासकीय कर्मचारियों को तृतीय उच्च वेतनमान मंत्रि-परिषद् द्वारा गौण खनिजों की रायल्टी एवं भाटक दरों का पुनरीक्षण 278 नगरीय निकाय की मतदाता-सूची का हुआ प्रारंभिक प्रकाशन उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा कोटरा में पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन मध्यप्रदेश में झींगा-पालन नीति का क्रियान्वयन शुरू आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी पीसीपीएनडीटी एक्ट से जोड़ा जायेगा 25 हजार कृषकों की आय में वृद्धि की बड़ी पहल प्रदेश में इस वर्ष भण्डारण क्षमता 152 लाख मीट्रिक टन संविदा पर्यवेक्षक के मानदेय में 2600 रुपये की वृद्धि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियाँ राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार के लिए 12 शिक्षक का चयन टीसीएस जापान प्रौद्योगिकी एवं संस्‍कृति अकादमी के उद्घाटन पर PM की टिप्‍पणी सैकरेड हार्ट विश्‍वविद्यालय तोक्‍यो में प्रधानमंत्री का व्‍याख्‍यान निक्केई द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍य वक्‍ता के रूप, में PM का भाषण सरकार संसद के अगले सत्र में मोटर बिल लाने का प्रयास करेगी: गडकरी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मां वैष्णो देवी के दर्शन किए जापान-भारत एसोसिएशन द्वारा आयोजित स्वागत समारोह में,PM का भाषण नए शासन में ‘नीतिगत पक्षाघात’ समाप्त हो: जावडेकर राज्य पशुधन मिशन के लिये राज्य-स्तरीय समिति का गठन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने करवाई सर्जरी प्रकरण गंभीर है सभी तथ्यों को शामिल कर जॉच करें: मंत्री श्री गौर भारत सरकार सोशल मीडिया पर -सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।