Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
अजा-अजजा वर्ग के विरुद्ध अपराध प्रकरणों में राहत राशि बढ़ी प्रेस संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा दी गई टिप्‍पणी का मूल पाठ राजनाथ सिंह दक्षेस देशों की बैठक में भाग लेने के लिए काठमांडू रवाना भारत और चीन के बीच12 समझौतों पर हस्ताक्षर भारत और चीन के बीच सीमा विवाद सुलझाने पर जोर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने राजघाट जाकर गांधी जी को श्रद्धांजलि दी नामीबिया के उच्‍चायुक्‍त ने कृषि मंत्री से मुलाकात की राष्‍ट्रपति का वि‍यतनाम की यात्रा से स्‍वदेश लौटते पर वक्‍तव्‍य आयोग द्वारा किये जा रहे नवाचारों का शहर से गाँव तक हो प्रचार-प्रसार प्रदेश में नाप-तौल उपकरणों के सत्यापन की व्यवस्था मध्यप्रदेश बना आई.टी. उद्योग की पसंद मुख्य सचिव ने दिए सेवा संबंधी प्रकरणों में समाधान के निर्देश उपलब्ध स्टॉक से अधिक मात्रा में गेहूँ का वितरण न हो सुरेंद्र सिंह ओ.एस. डी. पदस्थ प्रधानमंत्री 25 सितंबर से शुरू करेंगे ‘मेक इन इंडिया’ अभियान जिलों से शासकीय शालाओं में शौचालय संबंधी जानकारी माँगी गयी सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने 5 भाषाओं में समाचार एसएमएस सेवा शुरू की Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।