Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
छठे चरण में कड़ी सुरक्षा के बीच 12 राज्‍यों की 117 सीटों पर वोटिंग जारी सोमनाथ भारती पर हमले के लिए बीजेपी पर बरसे केजरीवाल नरेंद्र मोदी ने भव्य रोड शो के बाद दाखिल किया अपना नामांकन केंद्र ने SC से कहा-लोकपाल की नियुक्ति पर तुरंत कोई निर्णय नहीं देश में मोदी की कोई लहर नहीं, ये मीडिया की उपज- प्रधानमंत्री चार यंत्रियों का निलंबन आगे बढ़ने के लिए छात्रों को संसाधन उपलब्ध करवाना आवश्यक मतदान में भाग लेकर खुश दिखे बॉलीवुड एक्‍टर्स मोदी ने वाराणसी के बुनकरों से किया मदद का वादा चुनाव आयोग ने बेनी, कटियार को नोटिस भेजा महिलाओं की इज्जत नहीं करती मोदी सरकार- राहुल जनजातीय अंचल की सभी 6 सीटों पर भगवा परचम फहरायेगा बढ़े मतदान प्रतिशत में बदलाव का संकेत अंर्तनिहित है- लता वानखेड़े श्री नरेन्द्र मोदी के पक्ष में पूरे देश में लहर- श्री तोमर सीएम श्री चौहान ने अपने गृह ग्राम जैत में किया मतदान सोनिया गांधी के दस लाख रुपये के करमुक्त रेल बांड हुए गुम मोदी सिर्फ अपनी कुर्सी के लिए चिंतित : सोनिया मुख्य सचिव ने की नागरिकों से भेंट मप्र के पार्टी पदाधिकारी, संगठन मंत्री, कार्यकर्ता उप्र चुनाव प्रचार में सिर्फ कुछ उद्योगपतियों की चिंता न करें अगले पीएम- लॉर्ड पॉल प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष अरूण यादव ने माना प्रदेश के मतदाताओं का आभार राज्य निर्वाचन आयोग में आज से EVM की कार्य-प्रणाली, संचालन का प्रशिक्षण शासकीय शिक्षण संस्थाओं के लिये अवकाश घोषित मतदाताओं को भाया आदर्श मतदान केन्द्र मप्र में दस संसदीय क्षेत्र के मतदान में मतदाताओं ने उत्साहपूर्वक लिया भाग मोदी की सुनामी में बह जाएगी सपा, बसपा, कांग्रेस- अमित शाह सोनिया ने 2004 में देश को धोखा दिया- राजनाथ सिंह विदिशा विधानसभा उपचुनाव में 67.75 प्रतिशत मतदान हुआ मप्र में तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में 64.04 प्रतिशत मतदान भाजपा और मोदी एक दूसरे के पूरक- मुख्यमंत्री शिवराज Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।