Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी प्रदेशवासियों को बधाई मुख्यमंत्री 1 नवम्बर को करेंगे आँगनवाड़ी चलो अभियान कार्यक्रम का शुभारंभ देश के एकीकरण का श्रेय सरदार पटेल को बेहतर आँगनवाड़ी केन्द्र से स्वस्थ, स्वच्छ, सुपोषित गाँव बनेगा मंत्री श्री गौर ने दिलाई राष्ट्रीय एकता की शपथ मत-पत्रों के मुद्रण के लिए जिले शासकीय मुद्रणालयों से संबद्ध भूमि उपयोग प्रमाण-पत्र एवं विकास अनुज्ञा जारी करने की ऑनलाइन व्यवस्था महाराष्ट्र के नये मुख्यमंत्री के रूप में देवेंद्र फडणवीस ने शपथ ली राष्ट्रपति ने सरदार वल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि अर्पित की प्रधानमंत्री ने सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर उन्‍हें श्रद्धां‍जलि अर्पित PM ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्‍य तिथि‍ पर उन्‍हें याद किया प्रधानमंत्री ने ''एकता दौड़'' को झंडी दिखाकर रवाना किया राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ शिक्षा से भारत वि‍कसित देशों की श्रेणी में खड़ा हो सकता है: राष्‍ट्रपति साइबर अपराध से निपटने की रणनीति को मजबूत बनाया जायेगा: गृह मंत्री मध्यप्रदेश स्थापना दिवस का मुख्य समारोह लाल परेड मैदान में प्रकाश जावड़ेकर ने की वन विभाग के सूचना प्रौद्योगिकी कार्यों की सराहना Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

महंगाई दर और कम होने की आस- प्रणब

MP POST:-16-03-2012
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को विश्वास व्यक्त किया कि अगले कुछ महीनों में महंगाई दर और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।मुखर्जी ने लोकसभा में आम बजट पेश करते हुए कहा कि समग्र मुद्रास्फीति वर्ष में अधिकांशतया उंची बनी रही। केवल दिसंबर 2011 में जाकर यह कुछ कम होकर 8.3 प्रतिशत तक आई और जनवरी 2012 में 6.6 प्रतिशत रह गई। उन्होंने कहा कि मासिक खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी 2010 में 20.2 प्रतिशत थी जो कम होकर मार्च 2011 में 9.4 प्रतिशत रह गई और जनवरी 2012 में यह ऋणात्मक हो गई।
मुखर्जी ने कहा कि यद्यपि फरवरी 2012 की मुद्रास्फीति के आंकडे मामूली रूप से बढे हैं, मुझे आशा है कि अगले कुछ महीनों में समग्र मुद्रास्फीति और कम होगी और उसके बाद स्थिर हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत की मुद्रास्फीति मुख्य रूप से कषि संबंधी आपूर्ति की अडचनों और वैश्विक लागत में बढोतरी से प्रभावित होती है। सौभाग्यवश खाद्य आपूर्ति प्रणालियों को सुढृढ करने हेतु वितरण, भंडारण और विपणन व्यवस्था की खामियों को दूर करने के लिए उठाये गये कदमों ने हमें मुद्रास्फीति के अधिक कारगर प्रबंधन में सहायता की है और इससे खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है।