Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
रेल बजट बेहद निराशाजनक- अरूण यादव कन्यादान योजना प्रकोष्ठ की बैठक 27 फरवरी को भोपाल में अनुसूचित जाति मोर्चा का सदस्यता लक्ष्य पूर्णता की ओर डॉ. विनय सहस्रबुद्धे 27 फरवरी को इंदौर में जनोन्मुखी, गतिशील रेल बजट से रेल यात्रा निरापद होगी- श्री नंदकुमार मंत्री श्री ज्ञान सिंह उमरिया जिले के नौरोजाबाद दौरे पर राष्ट्र-गीत गायन 2 मार्च को अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति की छात्रवृत्ति स्वीकृति हेतु कार्यशाला आज निर्माण श्रमिको को अधिनियम के अंतर्गत लाभ दिलाएं थल सेना में धर्मशिक्षक की भर्ती परीक्षा 15 मार्च को होगी बेहतर उत्पादन के लिये कृषकों को सामयिक सलाह पीडीएस में मार्च माह के लिए शक्कर का आवंटन निर्वाचन में मानदेय से वंचित कर्मचारियों को ई-पेमेंट से भुगतान किया जाए मंत्री श्री गुप्ता और श्री सिंह द्वारा सविष्कार आई फास्ट-2015 का शुभारंभ जिले में 17 सौ बूथों पर पोलियो की दवा पिलाई जायेगी रेल व्यवस्था में दूरगामी सुधार लाने वाला बजट- मुख्यमंत्री श्री चौहान मौसमी रोगों से पूरी मुस्तैदी से बचाये जनता को- मुख्य सचिव लोकसभा में विपक्षी दलों के हंगामे के बाद वेंकैया ने अपने बयान पर दी सफाई शिवसेना रेल बजट से ‘पूरी तरह से असंतुष्ट’ रेल बजट महज भाषण है, कार्य योजना नहीं है: नीतीश मुलायम सिंह यादव ने रेल बजट को सराहा योजनाओं का नाम नहीं, काम ज्यादा अहम है : नायडू रेल बजट निराशाजनक, नया कुछ नहीं: कांग्रेस रेल बजट 2015: PM मोदी ने रेल बजट को बताया ऐतिहासिक ‘स्वच्छ रेल, स्वच्छ भारत’ पर रेल मंत्री का जोर रेल मंत्री सुरेश प्रभु बोले- ये बजट रेलवे को दुरुस्‍त करेगा रेल बजट 2015 की 15 अच्छी बातें रेल बजट 2015: नहीं बढ़ेगा रेल यात्री किराया मप्र सरकार का बजट पारित, विधानसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिये स्थगित भ्रामक और मनगणंत कहानियों को नहीं बेचा जा सकता- मुख्यमंत्री ​श्री चौहान Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

साल के अंत तक लागू होगा खाद्य सुरक्षा कानून

MP POST:-21-03-2012
नई दिल्ली। सरकार ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून साल के अंत तक लागू करने की योजना है।
खाद्य मंत्री के वी थॉमस ने यस बैंक और हिंदू बिजनेस लाईन द्वारा आयोजित एक समारोह में कहा हम दिसंबर 2012 के अंत तक खाद्य सुरक्षा विधेयक लागू करना चाहते हैं। संप्रग सरकार इस कार्यक्रम के तहत 63.5 फीसद आबादी को रियायती दर पर अनाज उपलब्ध कराने की व्यवस्था करना चाहती है।
थॉमस ने कहा कि कानून लागू करने के बाद सब्सिडी का बोझ बढकर 1.12 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा। सरकार 3,000 से 4,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सब्सिडी बर्दाश्त कर सकती है। चालू वित्त वर्ष के लिए खाद्य सब्सिडी करीब 88,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। खाद्य सुरक्षा विधेयक के तहत 6.3 करोड़ टन अनाज की जरूरत होगी।