Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
जनकल्याण पर्व में प्रदेश के सभी संगठनात्मक 56 जिलों में सभाएं महाविद्यालय भवन निर्माण के लिए भूमि आवंटित करवाने के निर्देश बैगानी शब्द-कोश कार्यशाला 26 मई से नीति आयोग के सम्मेलन की तैयारियाँ अच्छे दिन के वायदे पर भी खरी उतरी नरेंद्र मोदी सरकार श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आर्थिक क्रांति का नया पड़ाव- श्री अरविन्द निर्धन वर्ग के कल्याण के लिये बीमा की अभिनव योजना लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रमाण-पत्रों का वितरण समय-सीमा में हो कुपोषण पर नजर रखने 74 लाख बच्चों का वजन लिया गया किसान आगे बढ़ेंगे, तो देश आगे बढ़ेगा- गृह मंत्री संचालन के लिए समितियों का गठन मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद मप्र के सर्वांगिण विकास के मार्ग खुले राज्य से ग्राम-स्तर तक होने वाले कार्यक्रम प्रारंभ कृषि बीमा योजना और व्यावहारिक बनेगी- मुख्यमत्री श्री चौहान CBSE 12वीं क्लास के रिजल्ट घोषित, लड़कियों ने फिर मारी बाजी देश भर में गर्मी का कहर जारी मुंबई एयरपोर्ट के ऊपर संदिग्ध पैराशूट दिखे केरल की यात्रा करेंगे राहुल, मछुआरों और रबड़ उत्पादकों से मिलेंगे देश में वन मैन सरकार, मंत्री हो गए हैं संतरी चिदंबरम भी आए ट्विटर पर जब भगवान हमारे साथ है तो दुश्‍मनों से क्‍या डरना: केजरीवाल कालेधन की अर्थव्यवस्था को सही तरीके से कुचलने की कार्रवाई करें अधिकारी मोदी सरकार के 1 साल पूरा होने पर मथुरा में रैली सत्ता के गलियारों में दलालों की भूमिका खत्म: प्रधानमंत्री परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने की बसों की आकस्मिक जाँच राज्यस्तरीय कृषि महोत्सव का शुभारंभ सैनिक कल्याण निधि में सहायता पुण्य का काम नरेन्द्र मोदी का डिजिटल इंडिया नए भारत का सपना Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

साल के अंत तक लागू होगा खाद्य सुरक्षा कानून

MP POST:-21-03-2012
नई दिल्ली। सरकार ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून साल के अंत तक लागू करने की योजना है।
खाद्य मंत्री के वी थॉमस ने यस बैंक और हिंदू बिजनेस लाईन द्वारा आयोजित एक समारोह में कहा हम दिसंबर 2012 के अंत तक खाद्य सुरक्षा विधेयक लागू करना चाहते हैं। संप्रग सरकार इस कार्यक्रम के तहत 63.5 फीसद आबादी को रियायती दर पर अनाज उपलब्ध कराने की व्यवस्था करना चाहती है।
थॉमस ने कहा कि कानून लागू करने के बाद सब्सिडी का बोझ बढकर 1.12 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा। सरकार 3,000 से 4,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सब्सिडी बर्दाश्त कर सकती है। चालू वित्त वर्ष के लिए खाद्य सब्सिडी करीब 88,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। खाद्य सुरक्षा विधेयक के तहत 6.3 करोड़ टन अनाज की जरूरत होगी।