Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
रानी दुर्गावती है न शहडोल संभाग के आदिवासी तब और अब पुस्तक का विमोचन अतिथि विद्वानों का ऑनलाइन आमंत्रण 5 अगस्त तक कलेक्टर करेंगे जिलों में पाठ्य-पुस्तक वितरण की समीक्षा 1 से 7 अगस्त तक प्रदेश में विश्व स्तनपान सप्ताह प्रायवेट स्कूलों की खाली सीटों पर कमजोर वर्ग के बच्चों को प्रवेश मिलेगा भारत भवन में होंगे स्वतंत्रता दिवस की शाम सांस्कृतिक कार्यक्रम सीएम हेल्पलाइन का सफल एक साल दो उप सचिव की नवीन पद-स्थापना सार्वजनिक वितरण प्रणाली की द्वार प्रदाय योजना का सभी 51 जिले में विस्तार यात्रियों के मनपसंद बिस्तर के लिए रेलवे ने शुरू किया ऑनलाइन सर्वेक्षण पाकिस्‍तान ने अब पुंछ में तोड़ा सीजफायर सोने की कीमतों में लगातार गिरावट जारी सरकार और न्यायपालिका की साख दांव पर : दिग्विजय का ट्वीट गुरदासपुर में हमला करने वाले आतंकी रावी नदी के जरिये पाकिस्‍तान से आए थे दिग्विजय और शशि थरूर के बयान जनता का अपमान : भाजपा अब्‍दुल कलाम रामेश्‍वरम में हुए सुपुर्द-ए-खाक सरकार ने कर्मचारियों से कहा: संपत्तियों का ब्यौरा 15 अक्टूबर तक दें कड़ी सुरक्षा के बीच दफनाया गया याकूब का शव संसद में गतिरोध दूर करने के लिए सर्वदलीय बैठक जारी श्रवण-बाधित अभ्यर्थियों का पंजीयन 4 अगस्त तक सर्विस वोटर की नामावली में 8361 नाम जोड़े गये उच्च शिक्षा मंत्री ने मेधावी बच्चों को किया सम्मानित जनसंपर्क मंत्री श्री शुक्ल द्वारा गुरू पूर्णिमा पर बधाई अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर 10 रुपये का सिक्का जारी करेगा रिजर्व बैंक पीएम ने चीनी पर्यटकों के लिए ई वीजा सुविधा शुरू करने की घोषणा की Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

साल के अंत तक लागू होगा खाद्य सुरक्षा कानून

MP POST:-21-03-2012
नई दिल्ली। सरकार ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून साल के अंत तक लागू करने की योजना है।
खाद्य मंत्री के वी थॉमस ने यस बैंक और हिंदू बिजनेस लाईन द्वारा आयोजित एक समारोह में कहा हम दिसंबर 2012 के अंत तक खाद्य सुरक्षा विधेयक लागू करना चाहते हैं। संप्रग सरकार इस कार्यक्रम के तहत 63.5 फीसद आबादी को रियायती दर पर अनाज उपलब्ध कराने की व्यवस्था करना चाहती है।
थॉमस ने कहा कि कानून लागू करने के बाद सब्सिडी का बोझ बढकर 1.12 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा। सरकार 3,000 से 4,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सब्सिडी बर्दाश्त कर सकती है। चालू वित्त वर्ष के लिए खाद्य सब्सिडी करीब 88,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। खाद्य सुरक्षा विधेयक के तहत 6.3 करोड़ टन अनाज की जरूरत होगी।