Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शर्मा देश के गौरव जाति प्रमाण-पत्र के लिये आधार वर्ष 1 नवम्बर 2000 माना जाये मुख्यमंत्री ने बहोरीबंद क्षेत्र में विशाल जनसभा को संबोधित किया तीन विधानसभा उप चुनाव में 6 लाख से अधिक मतदाता करेंगे मतदान चन्द्रभान सिंह लोधी ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की PM ने अफगानिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर वहां के लोगों को बधाई दी योजना आयोग की जगह नया संस्थान कैसा हो पर सुझाव दें लोगः मोदी सरकार अगले सत्र में मोटर वाहन अधिनियम संशोधन विधेयक पेश करेगी: गडकरी राष्ट्रपपति प्रणब मुखर्जी ने डॉ. शंकर दयाल शर्मा को पुष्पांजलि अर्पित की मोदी ने आज हरियाणा में राष्ट्रीय राजमार्ग की नींव रखी पिछड़ा वर्ग के 12 हजार युवाओं को मिलेगा रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण मशीनों के साथ मेन पॉवर का भी उपयोग हो मुख्यमंत्री श्री चौहान 20 से 22 अगस्त तक दुबई दौरे पर राज्यपाल द्वारा स्व. डॉ. शर्मा की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित साइबर सुरक्षा पर कार्यशाला 20 अगस्त को भाप्रसे के दो अधिकारी की नयी पद-स्थापना सुशासन विषय पर राष्ट्रीय कार्यशाला के लिये आयोजन समिति गठित अजा-जजा के विद्यर्थियों को पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति की प्रतिपूर्ति अफगानिस्‍तान के स्‍वतंत्रता दिवस की पूर्व-संध्‍या पर राष्‍ट्रपति का संदेश देश को भ्रष्टाचार रूपी बीमारी से मुक्ति दिलाएंगेः प्रधानमंत्री गृह मंत्री नागरिक रक्षा मुख्‍यधारा योजना की शुरुआत करेंगे पूर्व सैनिकों की सेवाएं ले कारपोरेट सेक्टर: जेटली मनुष्य सृष्टि में सृजन के लिये ही आया है बेटल केज्युल्टी में विभिन्न प्रकार की सहायता स्वीकृत तीन उप चुनाव वाले क्षेत्र में प्रचार का समय समाप्त राजीव गाँधी युवा जोश से परिपूर्ण थे 1965 के युद्ध में शामिल पूर्व सैनिकों का सम्मान 9 सितम्बर को PM कल नागपुर में मोउडा सुपर थर्मल पावर परियोजना राष्‍ट्र को समर्पित करेंगे राज्‍यों के पर्यटन मंत्रियों का सम्‍मेलन नई दिल्‍ली में 21 अगस्‍त को आयोजित अमित शाह ने वाराणसी में मोदी के जनसंपर्क कार्यालय का उद्घाटन किया प्रधानमंत्री द्वारा डीआरडीओ पुरस्‍कारों का वितरण प्रधानमंत्री ने असम-नगालैंड संघर्ष पर रिपोर्ट मांगी सिविल डिफेंस स्कूली पाठ्यक्रमों में शामिल हो: राजनाथ स्वतंत्रतापूर्वक मतदान करके मतदान प्रतिशत का रिकार्ड बनाए- नंदकुमार मुख्यमंत्री श्री चौहान की दुबई यात्रा विधानसभा उप चुनाव के लिये मतदान 21 अगस्त को एमीरेट्स एयरलाइन के साथ हुआ एम.ओ.यू. आयोग की अनुमति बगैर नहीं बदलें उप जिला निर्वाचन अधिकारी सूचना प्रौद्योगिकी आधारित सेवाएँ विश्वसनीय बनाने सायबर सुरक्षा जरूरी Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मिशन दिल्ली: जल्द वादे पूरा करना चाहती है सपा

MP POST:-28-03-2012
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की जीत से उत्साहित सपा की नजर अब दिल्ली फतह पर है, जिसके लिए वह उन सब वादों को पूरा करना चाहती है जो उसने राज्य विधानसभा चुनाव के दौरान जनता से किए थे। जिसके लिए सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव पूरी शिद्दत के साथ जुट गए हैं और वादों को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार को निर्देश भी दे दिए हैं।
बेटे अखिलेश यादव को उत्तार प्रदेश की गद्दी सौंपकर मुलायम अब केंद्र की राजनीति में बड़ी भूमिका निभाना चाहते हैं। विधानसभा चुनाव से पहले लोगों से किए गए वादों को पूरा कर सपा अध्यक्ष आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी को एक बड़ी ताकत बनाना चाहते हैं। बीते दिनों समाजवादी चिंतक राम मनोहर लोहिया की जयंती पर लखनऊ में उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश से जल्द से जल्द घोषणा पत्र में किए गए वादे पूरे करने के निर्देश दिए थे। मुलायम ने कहा कि घोषणा पत्र के सारे वादे जल्द पूरा करें। घोषणा पत्र की प्रतियां अधिकारियों को दे दें और उनसे अपने विभाग में इसे छह माह में लागू करने के लिए कहे। घोषणा-पत्र के सभी वादे पूरे करने में एक साल से ज्यादा का समय नहीं लगना चाहिए।
जानकारों के मुताबिक प्रदेश सरकार यदि किसानों के लिए पेंशन व बीमा, किसानों तथा बुनकरों को नि:शुल्क बिजली और उनकी कर्जमाफी, सभी को नि:शुल्क दवा एवं शिक्षा, कन्या विद्या धन, छात्रों को लैपटॉप व टैबलेट तथा बेरोजगारी भत्तो जैसे वादों को एक साल के भीतर पूरा कर देती है तो देश में मध्याविध चुनाव की स्थिति में सपा इन्हें जनता के बीच गिनवा सकेगी। आम चुनाव यदि नियत समय पर होते है तो भी पार्टी को जनता के बीच इन्हे ठीक से प्रचारित करने का समय मिल जाएगा।
घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करने के अलावा मुलायम सिंह लगातार मंत्रियों को अनुशासन में रहने और सादगी बरतने के साथ-साथ ईमानदारी से काम करने की नसीहत दे रहे हैं, ताकि अखिलेश के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार पर कोई दाग न लगे और सरकार के सुशासन के बल पर आगामी चुनाव में उसे जनता का भरपूर समर्थन मिले।
राजनीतिक विश्लेषक एवं लखनऊ विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर रमेश दीक्षति ने कहा कि मुलायम को पता है कि चुनावी वादे पूरे करने से सपा की जनता के बीच अच्छी छवि बनेगी और लोकसभा चुनाव में पार्टी को इसका फायदा मिलेगा।
उन्होंने कहा कि जनता के बीच अच्छी छवि बनाने के लिए ही मुलायम अब केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाली संप्रग सरकार में शामिल होने से पीछे हट रहे हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि घोटालों के आरोपों से घिरी संप्रग सरकार में शामिल होने से सपा की छवि भी धूमिल हो सकती है और लोकसभा चुनाव में पार्टी को इसका नुकसान हो सकता है।