Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मध्यप्रदेश में ई-नगर पालिका योजना जल्द : मंत्री श्री विजयवर्गीय पाकिस्तान ने आतंकवाद से लड़ने की प्रतिबद्धता का बनाया मजाक: भारत बांग्लादेश के राष्ट्रपति से मिले पीएम मोदी यूजीसी का निर्देश, विवि भी क्रिसमस पर मनाएं सुशासन दिवस 2021 तक हिंदू राष्ट्र होगा भारत: राजेश्वर सिंह प्रधानमंत्री ने गांधीवादी चुनीभाई वैद्य के निधन पर शोक व्यक्त किया प्रधानमंत्री ने गोवा मुक्ति दिवस पर गोवा के लोगों को शुभकामनाएं दी पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की उच्चस्तरीय समितिकी रिपोर्ट झारखंड में अंतिम चरण का मतदान शनिवार को अपराधों पर काबू पाने केलिए भारत-मंगोलिया को सहयोग बढ़ाने की जरूरत प्रदेश को आगे बढ़ाने पूरी क्षमता से करें काम - श्री चौहान बैरागढ़ के स्थान पर संत हिरदाराम नगर का होगा अधिक उपयोग महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फड़णवीस आज भोपाल आयेंगे संवीक्षा के बाद अभ्यर्थी एक जनवरी तक नाम वापस ले सकेंगे मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में 110 के उपचार की प्रक्रिया प्रारंभ शालाओं में विद्युत व्यवस्था दुरुस्त करने और सुरक्षा उपाय के निर्देश छिन्दवाड़ा जिले के निर्वाचन चरणों में संशोधन सत्ता में परिवर्तन के कारण भारत से उम्मीदें बढ़ी हैं: भागवत मानव को अंतरिक्ष में भेजने की दिशा में बढ़े भारत के कदम सरकार राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पाने के प्रति कटिबद्ध पहले सईद से निपटो, शिवसेना ने पाक से कहा मनरेगा को व्यवहारिक बनाया जा रहा है: सरकार मप्र में मुख्यमंत्री ग्रामीण परिवहन सेवा : परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह जिला प्रशासन द्वारा कलियासोत डेम के पास सीमांकन कार्य का अवलोकन आरक्षित सीट पर महिलाओं का बैठना सुनिश्चित हो पीएम मोदी का डिजिटल इंडिया मप्र में साकार : आईटी मंत्री भूपेन्द्र सिंह मप्र में महिलाओं के विरूद्ध अपराधों में जीरो टोलरेंस : गृह मंत्री गौर सुभाष नगर फाटक की बावड़ियों का होगा संरक्षण भारत ने 1000 किग्रा का गाइडेड ग्लाइड बम का किया परीक्षण रिचर्ड वर्मा ने भारत में अमेरिकी राजदूत के तौर पर शपथ ली जबरन धर्मांतरण के खिलाफ है भाजपा : अमित शाह दुनिया के चार बड़े नेताओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल महिलाओं, बच्चों की सुरक्षा के लिए मोबाइल एप्प ‘जिमान’ लॉन्च झारखंड में आखिरी चरण का मतदान खत्म, जम्मू में जारी एकल महिला के लिए सामाजिक सुरक्षा योजनाएं वित्त मंत्री ने संविधान संशोधन विधेयक लोक सभा में पेश किया बेहतर कानून-व्यवस्था से विकास का सकारात्मक वातावरण बना अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री मोदी मुलाकात की भूले-भटकों को वापस लाएंगेः भागवत समुद्री सीमा को महफूज रखना जरूरी: राव इंद्रजीत माण्डू उत्सव की तीसरी शाम सैनिक स्कूल रीवा के केडेट्स का देश की सुरक्षा में अमूल्य योगदान एग्जिट पोल के अनुसार, झारखंड में भाजपा की सरकार Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मिशन दिल्ली: जल्द वादे पूरा करना चाहती है सपा

MP POST:-28-03-2012
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की जीत से उत्साहित सपा की नजर अब दिल्ली फतह पर है, जिसके लिए वह उन सब वादों को पूरा करना चाहती है जो उसने राज्य विधानसभा चुनाव के दौरान जनता से किए थे। जिसके लिए सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव पूरी शिद्दत के साथ जुट गए हैं और वादों को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार को निर्देश भी दे दिए हैं।
बेटे अखिलेश यादव को उत्तार प्रदेश की गद्दी सौंपकर मुलायम अब केंद्र की राजनीति में बड़ी भूमिका निभाना चाहते हैं। विधानसभा चुनाव से पहले लोगों से किए गए वादों को पूरा कर सपा अध्यक्ष आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी को एक बड़ी ताकत बनाना चाहते हैं। बीते दिनों समाजवादी चिंतक राम मनोहर लोहिया की जयंती पर लखनऊ में उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश से जल्द से जल्द घोषणा पत्र में किए गए वादे पूरे करने के निर्देश दिए थे। मुलायम ने कहा कि घोषणा पत्र के सारे वादे जल्द पूरा करें। घोषणा पत्र की प्रतियां अधिकारियों को दे दें और उनसे अपने विभाग में इसे छह माह में लागू करने के लिए कहे। घोषणा-पत्र के सभी वादे पूरे करने में एक साल से ज्यादा का समय नहीं लगना चाहिए।
जानकारों के मुताबिक प्रदेश सरकार यदि किसानों के लिए पेंशन व बीमा, किसानों तथा बुनकरों को नि:शुल्क बिजली और उनकी कर्जमाफी, सभी को नि:शुल्क दवा एवं शिक्षा, कन्या विद्या धन, छात्रों को लैपटॉप व टैबलेट तथा बेरोजगारी भत्तो जैसे वादों को एक साल के भीतर पूरा कर देती है तो देश में मध्याविध चुनाव की स्थिति में सपा इन्हें जनता के बीच गिनवा सकेगी। आम चुनाव यदि नियत समय पर होते है तो भी पार्टी को जनता के बीच इन्हे ठीक से प्रचारित करने का समय मिल जाएगा।
घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करने के अलावा मुलायम सिंह लगातार मंत्रियों को अनुशासन में रहने और सादगी बरतने के साथ-साथ ईमानदारी से काम करने की नसीहत दे रहे हैं, ताकि अखिलेश के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार पर कोई दाग न लगे और सरकार के सुशासन के बल पर आगामी चुनाव में उसे जनता का भरपूर समर्थन मिले।
राजनीतिक विश्लेषक एवं लखनऊ विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर रमेश दीक्षति ने कहा कि मुलायम को पता है कि चुनावी वादे पूरे करने से सपा की जनता के बीच अच्छी छवि बनेगी और लोकसभा चुनाव में पार्टी को इसका फायदा मिलेगा।
उन्होंने कहा कि जनता के बीच अच्छी छवि बनाने के लिए ही मुलायम अब केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाली संप्रग सरकार में शामिल होने से पीछे हट रहे हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि घोटालों के आरोपों से घिरी संप्रग सरकार में शामिल होने से सपा की छवि भी धूमिल हो सकती है और लोकसभा चुनाव में पार्टी को इसका नुकसान हो सकता है।