Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
शहरी विकास मंत्रालय ने चेन्नई मोनोरेल परियोजना को सैद्धांतिक मंजूरी दी एचयूपीए मंत्रालय द्वारा शहरी बेघरों के लिए केंद्र शासित प्रदेशों की बैठक तीन देशों की यात्रा के बाद स्वदेश लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्रेनों में सीट बढ़ाने के लिए रेल मंत्री ने बताया नया फार्मूला मोदी की अगवानी करने हवाई अड्डे पर जमा हुए बीजेपी नेता पुलिस महानिदेशकों/पुलिस महानिरीक्षकों का वार्षिक सम्मेलन दिल्ली विस चुनाव : सब हैं टिकट के दावेदार, कौन लड़ाएगा चुनाव नदियों को जोड़कर देश की सिचाईं क्षमता 90% तक बढ़ाई जा सकती है भ्रष्ट अधिकारियों के निलंबन की समीक्षा का निर्देश बिहार के लिए 26 करोड़ रुपये की लागत वाली डेयरी परियोजनाओं को मंजूरी टीएपीआई स्थायी समिति का 19वां दौर सुरक्षा परिषद में वैश्विक प्रतिनिधित्व जरूरी: भारत भारत से रिश्ते आगे बढ़ाने पर ध्यान देंगे: हेली फन्दा बनेगा आदर्श ग्राम शासकीय संपत्ति के विरूपण पर दर्ज होगी एफ.आई.आर. जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिये आरक्षण 25 नवम्बर को गृह मंत्री श्री गौर ने किया 46 लाख के कार्यों का भूमि-पूजन गृह मंत्री श्री गौर ने रति त्रिपाठी के स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की देवास और दतिया जिले में भी सभी परिवार के बेंक खाते प्रधानमंत्री ने अफगानिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति हामिद करजई की अगवानी की गांव की बेटी गांव की शरण में लौटी है- नजमा हेपतुल्ला मुख्यमंत्री 21 नवंबर को बैतूल, छिंदवाड़ा व नरसिंहपुर के चुनावी दौरे पर Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मुख्यमंत्री ने की लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा

MP POST:-15-05-2012
भोपाल।प्रदेश में नदी, डेम आदि सतही जल-स्त्रोतों पर आधारित समूह जल प्रदाय योजनाओं का क्रियान्वयन जल विकास निगम के माध्यम से किया जायेगा। कम से कम 50 प्रतिशत नलकूप का खनन विभागीय मशीनों से होगा। यह जानकारी आज यहाँ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गयी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा में दी गयी। बताया गया कि सतही जल-स्त्रोतों पर आधारित योजना का प्रस्ताव कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्तुत किया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि डार्क एरिया, जहाँ पानी की समस्या है, में पेयजल उपलब्ध करवाने पर विशेष ध्यान दिया जाय। पेयजल योजनाएँ आगामी 25 वर्ष की जनसंख्या तथा विकास को ध्यान में रखते हुए बनायी जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि उनके द्वारा की गयी घोषणाओं के अमल में विलम्ब नहीं हो। श्री चौहान ने भू-जल संवर्धन के कार्यों के स्थल निरीक्षण के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि नलकूप खनन के लिये क्षेत्र में भेजी जाने वाली विभागीय मशीनों की निगरानी जी पी एस सिस्टम से की जायेगी। विभागीय योजनाओं का थर्ड पार्टी निरीक्षण तथा मूल्यांकन करवाया जायेगा। इसमें सेवानिवृत्त विभागीय अधिकारी तथा अन्य विभागों के अधिकारियों की सेवाएँ ली जायेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा सिस्टम बनाया जाय जिसमें गड़बड़ी की गुंजाइश ही नहीं रहे। बैठक में जानकारी दी गयी कि बंद पड़ी सभी नल-जल योजनाएँ अभियान चलाकर चालू की जा रही हैं। बीते वित्तीय वर्ष के दौरान इस अभियान में 1100 नल-जल योजनाएँ चालू की गयीं।
बैठक में बताया गया कि प्रदेश के इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान वाले नौ जिलों सहित 13 जिलों के 735 ग्राम में इस वर्ष दोहरी सुविधा वाली जल योजना क्रियान्वित की जायेगी। रुपये 38 करोड़ 36 लाख लागत की इन योजनाओं में सब्सिडी उपलब्ध करवाने का प्रस्ताव केन्द्र शासन को भेजा गया है। इन योजनाओं में हैण्ड पम्पों में सोलर पम्प लगाये जायेंगे। जिससे सूर्य की रोशनी के दौरान पम्प से पानी प्राप्त होगा तथा जरूरत पड़ने पर हैण्ड पम्प भी चलाये जा सकेंगे।
बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, मुख्य सचिव श्री आर. परशुराम, प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव श्री अजय नाथ, सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री एस.के. मिश्रा सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।