Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मुख्यमंत्री श्री चौहान शनिवार को इंदौर में करेंगे रोड शो 21 वीं सदी की स्मार्ट सिटी की अवधारणा से मध्यप्रदेश में शहरी विकास होगा भोपाल नगर श्री चौहान की कर्मभूमि का चहुमुखी विकास सुनिश्चित होगा भारत की अर्थव्यवस्था तीव्रगति से बढ़ने के लिए तैयार है- श्री नंदकुमार दिल्ली से लेकर स्थानीय नगर सरकार तक भारतीय जनता पार्टी को.. एनडीए सरकार ने विश्व को भारत की अस्मिता का संदेश दिया- श्री जावडे़कर राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर मंत्रालय उद्यान में हुई शपथ मुख्यमंत्री श्री चौहान 26 जनवरी को आगर में करेंगे ध्वजारोहण राज्य मंत्री श्री शरद जैन मण्डला में करेंगे ध्वजारोहण उत्कृष्ट और मॉडल स्कूल की 9वीं की प्रवेश परीक्षा की तिथि बदली राज्य स्तरीय समारोह में पुरस्कृत होंगे 66 अधिकारी-कर्मचारी और विद्यार्थी जिला एवं जनपद पंचायत अध्यक्ष के निर्वाचन के लिए सम्मिलन 4 मार्च को जनसंपर्कमंत्री द्वारा पत्रकारिता विश्वविद्यालय के केलेण्डर का विमोचन यूनिसेफ के साथ ब्रिटिश काउंसिल देगी शिक्षकों को अंग्रेजी का प्रशिक्षण बिजली सुधार कार्यों को समय पर न करने वाली एजेन्सी तथा .. राज्यपाल ने राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर शपथ दिलाई फ्रेण्ड्स ऑफ एमपी कॉनक्लेव न्यूयार्क में एक फरवरी को शाह ने जनता परिवार के विलय की कोशिश को 'अनैतिक' बताया विदेशी मेहमान की सुरक्षा के नाम पर आसमान गिरवी रख रही भाजपा आंध्र प्रदेश की नई राजधानी के लिए केंद्र प्रतिबद्ध : वेंकैया अमित शाह ने दिल्ली में बेदी की उम्मीदवारी का किया बचाव गणतंत्र दिवस समारोह के लिए न्यौता न मिलने से केजरीवाल नाराज सभी जनधन खातों को आधार से जोड़ें बैंक : PM मोदी ओबामा के लिए खास सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन बालिकाओं के खिलाफ भेदभाव को समाप्त करें: मोदी मप्र सरकार द्वारा स्किल डेव्लपमेंट पर कार्यशाला 28 जनवरी को आयोजित स्वाईन फ्लू से डरें नहीं सावधानी रखें- श्री प्रवीर कृष्ण Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

मुख्यमंत्री ने की लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा

MP POST:-15-05-2012
भोपाल।प्रदेश में नदी, डेम आदि सतही जल-स्त्रोतों पर आधारित समूह जल प्रदाय योजनाओं का क्रियान्वयन जल विकास निगम के माध्यम से किया जायेगा। कम से कम 50 प्रतिशत नलकूप का खनन विभागीय मशीनों से होगा। यह जानकारी आज यहाँ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गयी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा में दी गयी। बताया गया कि सतही जल-स्त्रोतों पर आधारित योजना का प्रस्ताव कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्तुत किया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि डार्क एरिया, जहाँ पानी की समस्या है, में पेयजल उपलब्ध करवाने पर विशेष ध्यान दिया जाय। पेयजल योजनाएँ आगामी 25 वर्ष की जनसंख्या तथा विकास को ध्यान में रखते हुए बनायी जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि उनके द्वारा की गयी घोषणाओं के अमल में विलम्ब नहीं हो। श्री चौहान ने भू-जल संवर्धन के कार्यों के स्थल निरीक्षण के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि नलकूप खनन के लिये क्षेत्र में भेजी जाने वाली विभागीय मशीनों की निगरानी जी पी एस सिस्टम से की जायेगी। विभागीय योजनाओं का थर्ड पार्टी निरीक्षण तथा मूल्यांकन करवाया जायेगा। इसमें सेवानिवृत्त विभागीय अधिकारी तथा अन्य विभागों के अधिकारियों की सेवाएँ ली जायेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा सिस्टम बनाया जाय जिसमें गड़बड़ी की गुंजाइश ही नहीं रहे। बैठक में जानकारी दी गयी कि बंद पड़ी सभी नल-जल योजनाएँ अभियान चलाकर चालू की जा रही हैं। बीते वित्तीय वर्ष के दौरान इस अभियान में 1100 नल-जल योजनाएँ चालू की गयीं।
बैठक में बताया गया कि प्रदेश के इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान वाले नौ जिलों सहित 13 जिलों के 735 ग्राम में इस वर्ष दोहरी सुविधा वाली जल योजना क्रियान्वित की जायेगी। रुपये 38 करोड़ 36 लाख लागत की इन योजनाओं में सब्सिडी उपलब्ध करवाने का प्रस्ताव केन्द्र शासन को भेजा गया है। इन योजनाओं में हैण्ड पम्पों में सोलर पम्प लगाये जायेंगे। जिससे सूर्य की रोशनी के दौरान पम्प से पानी प्राप्त होगा तथा जरूरत पड़ने पर हैण्ड पम्प भी चलाये जा सकेंगे।
बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, मुख्य सचिव श्री आर. परशुराम, प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव श्री अजय नाथ, सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री एस.के. मिश्रा सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।