Facebook Twitter Youtube g+ Linkedin
मंत्रालय उद्यान में हुआ राष्ट्रगीत वंदेमातरम गायन नजरी नक्शा के साथ पंचायतवार तैयार होंगी मतदाता सूची कृषि और सिंचाई के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की उपलब्धियाँ चमत्कारिक शिक्षक दिवस पर पौने दो करोड़ से अधिक बच्चे सुनेंगे प्रधानमंत्री का सम्बोधन प्रदेश को पूर्ण स्वस्थ बनाने में संसाधनों की कमी नहीं चित्रकूट में ट्रस्ट बनाया जायेगा प्रधानमंत्री ने ताइमेई एलिमेन्ट्री स्कूल का दौरा किया मोटर वाहन अधिनियम 1988 का स्‍थान लेगा सड़क यातायात अधिनियम: गडकरी राष्‍ट्रपति का वियतनाम के राष्‍ट्रीय दिवस की पूर्व संध्‍या पर संदेश निप्पॉन किडनरेन द्वारा आयोजित दोपहर के भोज पर प्रधानमंत्री का संबोधन भारत में दो लाख करोड़ रुपए निवेश करेगा जापान सोनिया गांधी आज से दो दिवसीय रायबरेली दौरे पर बरगी परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना बनाया जायेगा- उमा भारती गृहमंत्री ने पाक के साथ काठमांडू में द्विपक्षीय वार्ता की खबर का खंडन किया जेपी पॉवर निगरी से 660 मेगावाट बिजली उत्पाद शुरू ममता अभियान की सरल भाषा में दें जानकारी - डॉ. शेजवार शताब्दी एक्सप्रेस हबीबगंज तक विस्तारित करने के लिए आभार - नंदकुमारसिंह राज्य-स्तरीय सतर्कता एवं मॉनीटरिंग समिति पुनर्गठित छात्रवृत्ति निर्धारित समयावधि में बँटे मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में रामदेवरा तीर्थ भी शामिल जापान चैम्‍बर्स आफ कामर्स में नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए भाषण का मूल पाठ Follows us on 
 मुख्य शीर्षक
 आज के कार्यक्रम
..........
 आमने सामने
  

वोटर-लिस्ट वेबसाइट पर उपलब्ध-विधानसभा निर्वाचन-2013

MP POST:-25-03-2013
भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की वेबसाइट पर वर्ष 2013 की वोटर-लिस्ट उपलब्ध करवाई गई है। वेबसाइट को देखकर मतदाता अपना नाम वोटर-लिस्ट में है या नहीं, पता कर सकेंगे। वेबसाइट पर मतदाता वोटर-लिस्ट में अपना नाम सर्च कर सकेंगे। इसके लिये उन्हें अपना नाम एवं एपिक-कार्ड का नम्बर डालना होगा। यदि एपिक-कार्ड का नम्बर डालने से नाम नहीं आता है तो आवेदक को फार्म नम्बर-6 भरकर अपना नाम जुड़वाना होगा।
प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जयदीप गोविंद ने सभी मतदाताओं से अपील की है कि वे वेबसाइट पर सर्च सुविधा का उपयोग कर अपना नाम सूची में है या नहीं, जरूर देखें। सूची में नाम न होने पर फार्म नम्बर-6 भरकर मतदाता परिचय-पत्र प्राप्त करने की कार्यवाही करें। नाम जोड़ने और नये एपिक कार्य के लिये सभी मतदान-केन्द्रों को 15 दिन का समय दिया गया है। उन्होंने बताया कि विधानसभा क्षेत्र का कोई भी मतदाता डुप्लीकेट कार्ड तहसील कार्यालय में स्थापित सहायता केन्द्र पर तत्काल बनवा सकता है। पुराने कार्ड की त्रुटियों में सुधार के लिये फार्म नम्बर-8 भरकर प्रस्तुत किया जा सकता है। नाम विलोपित करने के लिये फार्म नम्बर-7 मान्य होगा। विधानसभा क्षेत्र में एक स्थान से दूसरे स्थान पर नाम ट्रांसफर करवाने के लिये फार्म नम्बर-8 ‘क’ भरकर जमा किया जा सकेगा।
श्री जयदीप गोविंद ने बताया कि मतदाता-सूची में नाम हो तथा पूर्व का बना हुआ एपिक-कार्ड गुम या खराब हो गया हो तो आवेदन-पत्र भरकर तथा 25 रुपये जमा कर तुरंत डुप्लीकेट एपिक-कार्ड बनवाया जा सकता है। मतदाता सुविधा-केन्द्रों का समय कार्यालयीन दिवसों में सबेरे 10.30 से शाम 5.30 बजे तक है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने ऐसे पात्र मतदाताओं, जिनकी आयु एक जनवरी, 2013 को 18 वर्ष की हो गई है तथा जिनका नाम मतदाता-सूची में शामिल नहीं है, उनसे भी अपना नाम जुड़वाने की अपील की है।
उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश का मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय इन दिनों आमजन को चुनाव प्रक्रिया से जोड़ने की दिशा में लगातार सक्रिय है। मतदाताओं की सुविधा के लिये राष्ट्रीय-स्तर की हेल्पलाइन, वेबसाइट तथा टोल-फ्री नम्बर 1950 उपलब्ध करवाया गया है। प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में मतदाता सुविधा-केन्द्र स्थापित किये गये हैं। साथ ही 230 विधानसभा क्षेत्र मुख्यालयों पर भी मतदाता सहायता-केन्द्रों की स्थापना की गई है। इस प्रकार अब मतदाताओं को सालभर आसानी से वोटर-लिस्ट एवं मतदाता पहचान-पत्र संबंधी कार्य की सुविधा उपलब्ध रहेगी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के 17, अरेरा हिल्स, भोपाल स्थित कार्यालय में भी राज्य-स्तरीय मतदाता सुविधा-केन्द्र विगत जनवरी से मतदाताओं को सुविधा प्रदान कर रहा है। इस केन्द्र पर नाम जोड़ने के लिये फार्म, डुप्लीकेट पहचान-पत्र बनवाने तथा त्रुटियों के सुधार के लिये आवेदन दिये जा रहे हैं।